नई दिल्ली, जेएनएन। अपना दूसरा वर्ल्ड कप खेलने के लिए तैयार अफगानिस्तान के पास इस टूर्नामेंट में खोने के लिए कुछ नहीं है। युवा और कुछ अनुभवी खिलाड़ियों के तालमेल वाली अफगानी टीम किसी भी बड़ी टीम का खेल बिगाड़ सकती है। वर्ल्ड कप जैसे टूर्नामेंट में भले ही अफगानिस्तान का रिकॉर्ड अच्छा नहीं हो। लेकिन, युवा उभरते सितारों से सजी ये टीम कुछ भी कर सकती है। वर्ल्ड कप 2019 से पहले अफगानिस्तान की टीम ने 2015 के वर्ल्ड कप में क्वालीफाई कर लीग मैच खेले थे। उस समय मोहम्मद नबी की कप्तानी में टीम ने 6 में से एक मैच जीता था और कई मैचों में सामने वाली टीमों को टक्कर दी थी।

इसके अलावा अफगानिस्तान का टी20 इंटरनेशनल क्रिकेट में विनिंग पर्सेंटेज सबसे अच्छा है। 50 से ज्यादा मैच खेलने वाली अंतरराष्ट्रीय टीमों में अफगानिस्तान की जीत का औसत 69.01 है। वहीं, दूसरे नंबर पर 63.98 के विनिंग पर्सेंटेज वाला पाकिस्तान है, जबकि भारत 62.94 के जीत के औसत के साथ तीसरे नंबर पर है। 2009 से वनडे क्रिकेट की शुरुआत करने वाली अफगानिस्तान ने 113 मैच खेले हैं, जिसमें से टीम को 58 मैचों में जीत मिली है तो वहीं 51 मैचों में हार का सामना करना पड़ा है। इसी औसत को देखा जाए तो अफगानी टीम हर दूसरा मैच जीतती है। ऐसे में अफगानिस्तान के लिए राशिद खान, मोहम्मद नबी और मोहम्मद शहजाद काफी अहम रहने वाले हैं।

मोहम्मद शहजाद देंगे शुरुआत

अफगानिस्तान को अच्छा शुरुआत देने की जिम्मेदारी वर्ल्ड कप में मोहम्मद शहजाद के कंधों पर होगी। अफगानिस्तान के लिए 82 मैच खेल चुके मोहम्मद शहजाद लंबे छक्के लगाने के साथ-साथ अच्छी और बड़ी पारियां खेलने में सक्षम हैं। मोहम्मद शहजाद ने अपने वनडे करियर में अब तक 5 शतक और 14 अर्धशतक लगाए हैं। वर्ल्ड कप 2019 में मोहम्मद शहजाद बतौर विकेटकीपर बल्लेबाज खेलेंगे।

ऐसे में क्या मोहम्मद शहजाद इन आंकड़ों के साथ अफगानिस्तान को वर्ल्ड कप में आगे ले जा पाएंगे ये देखने वाली बात होगी। क्योंकि एक दफा शहजाद विराट कोहली को भी चुनौती दे चुके हैं कि मोटा हूं तो क्या हुआ उनसे लंबे छक्के मार सकता हूं। हालांकि, अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने पहले ही साफ कर दिया है वो इस वर्ल्ड कप में आगे जाने के लिए नहीं बल्कि अगले वर्ल्ड कप के लिए सोच रहे हैं।

 

राशिद 'करामाती' खान

20 वर्षीय राशिद खान ने अफगानिस्तान के लिए 57 वनडे मैच खेले हैं। इन मैचों में राशिद करामाती खान ने 125 खिलाड़ियों को अपना शिकार बनाया है। इसी बात से साफ है कि राशिद कितने करामाती स्पिनर हैं। लेग स्पिनर राशिद खान कभी-कभार बल्लेबाजी के लिए जाने जाते हैं। राशिद ने बतौर बल्लेबाज 43 पारियों में 798 रन बनाए हैं। इसमें चार अर्धशतक भी शामिल हैं।

राशिद खान अंतिम के ओवरों में चौके-छक्के लगाने के लिए जाने जाते हैं। राशिद खान आइसीसी की वनडे बॉलिंग रैंकिंग में तीसरे और बतौर ऑलराउंडर पहले स्थान पर हैं। वहीं, टी20 बॉलिंग रैकिंग में राशिद करामाती खान पहले नंबर पर हैं। ऐसे में अपने दम पर कुछेक मैच जिताने की जिम्मेदारी राशिद खान की भी होगी क्योंकि, वो टीम के उपकप्तान भी हैं।

मोहम्मद 'अनुभवी' नबी

अफगानिस्तान की टीम में कई खिलाड़ी आए और कई खिलाडी गए लेकिन पूर्व कप्तान मोहम्मद नबी का नाम ज्यों की त्यों है। अफगानिस्तान ने अभी तक जितने वनडे मैच खेले हैं, उनमें से सिर्फ एक मैच को छोड़ दिया जाए तो 34 वर्षीय मोहम्मद नबी ने आतंक से जंग लड़ रहे अफगानिस्तान के लिए हर मैच खेला है। मोहम्मद नबी अफगानिस्तान के सबसे अनुभवी खिलाड़ी हैं।

साल 2015 के वर्ल्ड कप अफगानिस्तान की कप्तानी संभालने वाले मोहम्मद नबी इस समय टी20 और वनडे की ऑलराउंडर्स की रैंकिंग में तीसरे स्थान पर हैं। मोहम्मद नबी ने अफगानिस्तान के लिए 112 वनडे मैच खेले हैं, जिसमें उन्होंने 118 विकेट चो चटकाए ही हैं। साथ ही साथ बल्ले से 2600 से ज्यादा रन भी बनाए हैं। ये आंकड़े दर्शाते हैं कि मोहम्मद अनुभवी नबी वर्ल्ड कप में अफगानी टीम के लिए तुरुप का इक्का साबित होंगे।

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Vikash Gaur