नई दिल्ली, जागरण न्यूज नेटवर्क। लगातार दूसरे मैच में मैन ऑफ द मैच बने अमित मिश्रा की अगुआई में भारतीय गेंदबाजों के एक और प्रभावशाली प्रदर्शन के दम पर भारत ने मीरपुर (बांग्लादेश) में खेले जा रहे टी-20 विश्व कप में रविवार को गत चैंपियन वेस्टइंडीज पर सात विकेट से आसान जीत दर्ज की। लगातार दूसरी जीत के साथ भारत अपने ग्रुप में चार अंक लेकर शीर्ष पर पहुंच गया है। क्योंकि भारत को अपना अगला मुकाबला बांग्लादेश से खेलना है ऐसे में उसके सबसे पहले सेमीफाइनल में पहुंचने की उम्मीदें प्रबल हो गई हैं। भारत की जीत में एक बार फिर गेंदबाजों का बड़ा योगदान रहा। खासकर भुवनेश्वर (0/3), अमित मिश्रा (2/18) और सुरेश रैना (0/8) ने कसी हुई गेंदबाजी करते हुए खतरनाक मानी जा रही कैरेबियाई टीम को 129/7 के छोटे स्कोर पर रोक दिया। उन्होंने किसी भी बल्लेबाज को खुलकर खेलने का मौका नहीं दिया। क्रिस गेल ने सर्वाधिक 34 रन बनाए, लेकिन उनकी पारी में ढेरों कमियां रहीं।

रोहित-कोहली की शतकीय साझेदारी :

आसान लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम ने पहले ही ओवर में शिखर धवन (00) का विकेट गंवा दिया, लेकिन रोहित शर्मा (नाबाद 62) और विराट कोहली (54) ने 106 रन की साझेदारी करके मैच पर भारत की पकड़ बनाए रखी। संभल कर खेल रहे युवराज सिंह (10) आखिरी ओवर में तब आउट हुए जब स्कोर बराबर था। उनके जाने के बाद रैना ने पहली ही गेंद पर विजयी चौका जड़ दिया।

भुवी ने पहले ओवर से किया पलड़ा भारी :

भुवनेश्वर ने पारी के पहले ही ओवर से मैच में भारत का पलड़ा भारी कर दिया। उनकी स्विंग गेंदबाजी का कैरेबियाई सलामी बल्लेबाज ड्वेन स्मिथ और क्रिस गेल के पास कोई जवाब नहीं दिखा। स्मिथ कुछ ज्यादा ही असहज दिखे। उन्होंने भुवी की 18 में से 15 गेंदों का सामना किया और केवल एक रन बना सके। भुवी ने अपने पहले स्पेल के तीन ओवरों में केवल तीन रन दिए। स्मिथ 29 गेंद पर 11 रन बनाकर आउट हुए। वह जब आउट हुए तब टीम का स्कोर 7.5 ओवर में केवल 38 रन था।

मिश्रा और गेल की दिलचस्प भिड़ंत :

महज अपना तीसरा टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेल रहे मिश्रा जब गेंदबाजी के लिए आए तो उनकी पहली ही गेंद को गेल ने छक्के के लिए भेज दिया। ऐसा लगा मिश्रा के खिलाफ गेल कुछ खास रणनीति बना कर आए हैं। अगली गेंद को उन्होंने फिर छक्के के लिए भेजना चाहा, लेकिन मिश्रा की बलखाती गेंद उनके बल्ले पर सही से नहीं आई। सीमारेखा के पास खड़े युवराज सिंह ने आसान सा कैच छोड़कर गेल को मैच का दूसरा जीवनदान दिया। इससे पहले मुहम्मद शमी की गेंद पर स्लिप में अश्विन ने उनका कैच टपकाया था। पहले ओवर में नौ रन देने वाले मिश्रा को धौनी ने मोर्चे से हटा लिया और फिर 12वें ओवर में गेंद थमाई। इस ओवर में उन्होंने गेल को बांधे रखा और आखिरी गेंद पर यह तूफानी गेंदबाज रन आउट हो गया।

जडेजा को क्यों दिया आखिरी ओवर: मैच में भारतीय खिलाड़ियों ने कुछ कैच टपकाए इसके बावजूद सब कुछ टीम के पक्ष में चल रहा था। वेस्टइंडीज की टीम 19 ओवर तक पांच विकेट पर केवल 108 रन बना सकी थी। तीन ओवर में केवल तीन रन देने वाले भुवी का एक ओवर बचा था, लेकिन कप्तान धौनी ने आखिरी ओवर के लिए जडेजा को गेंद थमा दी और कैरेबियाई पुछल्लों ने उस ओवर में तीन छक्के जड़ते हुए कुल 21 रन बटोर लिए और टीम को सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचा दिया।

---------------

स्कोर

टॉस : भारत (क्षेत्ररक्षण)

वेस्टइंडीज : 129/7 (20 ओवर)

भारत : 130/3 (19.4 ओवर)

परिणाम : भारत सात विकेट से विजयी

मैन ऑफ द मैच : अमित मिश्रा (भारत)

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस