कोलकाता [अभिषेक त्रिपाठी]। टीम इंडिया वनडे विश्व कप में छह बार और टी-20 विश्व कप में चार बार पाकिस्तान को हरा चुकी है। भारत आज जब विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ उतरेगा तो उसका लक्ष्य इस प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ अपना अजेय रिकॉर्ड बनाए रखने के साथ टूर्नामेंट में उम्मीदें बनाए रखना भी होगा। पाकिस्तान के खिलाफ 11वीं जीत भारत के नंबर एक टीम का तमगा बरकरार रखने में भी मददगार साबित होगी। शायद ऐसा पहली बार है जब विश्व कप के किसी मुकाबले में टीम इंडिया दबाव में है और पाकिस्तान का पलड़ा भारी नजर आ रहा है।

ये भी पढ़ेंः महामुकाबला आज, जानिए दोनों के बीच की कुछ खास बातें

टी-20 विश्व कप का सबसे चर्चित मैच

यह मैच कौन जीतेगा यह बहुत कुछ सिक्के की उछाल पर निर्भर करेगा। अभी तक यहां हुए मुकाबलों के दौरान हल्की ओस पड़ी है और ऐसा ही रहा तो गेंदबाजों को सफलता मिलनी तय है। गेंद स्पिन भी कर सकती है। ऐसे में टॉस की भूमिका अहम हो जाती है। इसका मतलब है कि सिक्का जिसके पक्ष में गिरा वह पहले बल्लेबाजी करना चाहेगा। टॉस जीतने के मामले में धौनी अनाड़ी रहे हैं, लेकिन वह यहां शाम के धुंधलके में पाकिस्तानी पेस तिकड़ी का सामना नहीं करना चाहेंगे। वह विरोधियों की स्विंग झेलने की जगह यहां टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करना चाहेंगे।

ये भी पढ़ेंः इडेन-गार्डंस पर बदला माहौल, कोहली ने आमिर को भेंट किया बल्ला

पिछले मैच को आंख मूंदकर भी देखें तो पता चलता है कि टीम इंडिया के शीर्ष क्रम ने गलती की और उसमें भी सबसे ज्यादा गलती शिखर धवन की रही। पहले ही ओवर में उन्होंने जिस तरह एक्रॉस द लाइन जाकर खेला उसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता।
गेंद और बल्ले की रोमांचक जंग :

पड़ोसियों का तेज गेंदबाजी अटैक अछा है तो भारत की बल्लेबाजी टॉप क्लास की है। एशिया कप में इन दोनों के बीच जंग देखने को मिली थी। पाकिस्तान के लिए मुहम्मद आमिर, वहाब रियाज और मुहम्मद इरफान हैं जो 145 से 150 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से गेंद फेंक सकते हैं तो रोहित, धवन और विराट जैसे बल्लेबाज इन्हें मार भी सकते हैं। एशिया कप में विराट कोहली ने दिखा दिया था कि आमिर को कैसे खेलना है। टीम के बाकी बल्लेबाजों को उनका वह वीडियो देखना चाहिए। आमिर बायें हाथ के गेंदबाज हैं और गेंद को अंदर की तरफ निकालते हैं। खास तौर रोहित और शिखर को सीधे से बल्ले से खेलना होगा नहीं तो एलबीडब्ल्यू हो सकते हैं या डंडा उड़ जाएगा। हालांकि भारतीय गेंदबाजों के लिए तेज नहीं स्पिन आक्रमण समस्या है, लेकिन ये जामथा नहीं ईडन गार्डेंन है।

ये भी पढ़ेंः मैच से पहले कोलकाता में मौसम खराब, बारिश की आशंका

टीम इंडिया के निशाने पर होंगे आठ ओवर :

पाकिस्तानी टीम के तेज गेंदबाज जितने अच्छे हैं स्पिन गेंदबाजी उतनी ही सामान्य है। इमाद वसीम ने श्रीलंका के खिलाफ अभ्यास मैच में चार विकेट जरूर लिए हैं लेकिन वह इस मैच में कारगर सिद्ध होते हैं इसमें संदेह है। बैन के कारण अजमल टीम में नहीं हैं और मुहम्मद हफीज संदिग्ध एक्शन के कारण गेंदबाजी कर सकते। शाहिद अफरीदी और शोएब मलिक पर पाकिस्तान को भरोसा करना होगा।

भारतीय टीम इनके पेस अटैक के 12 ओवरों को आराम से और स्पिन अटैक के आठ ओवरों में धुंआधार बल्लेबाजी करके आगे बढ़ सकती है।

ये भी पढ़ेंः भारत-पाक मैच सीमा पर प्रतिद्वद्विता जैसाः अश्विन
कागज पर नहीं, ईडन पर खेलना होगा :

टीम इंडिया कागजों पर मजबूत है लेकिन पिछले मैच में उसके बल्लेबाज 127 रन तक पहुंचने में भी नाकाम रहे। रोहित शर्मा से लेकर आर अश्विन तक टीम इंडिया में 11 में से नौ ऐसे खिलाड़ी हैं जो जरूरत पड़ने पर अच्छी बल्लेबाजी कर सकते हैं। रैना या युवराज की जगह अजिंक्य रहाणो को खिलाकर धौनी इसे और मजबूती दे सकते हैं।

ये भी पढ़ेंः बड़ी टीमों के सामने अफरीदी को करना पड़ सकता है संघर्ष: चैपल
पाकिस्तान की बल्लेबाजी लय में :

अफरीदी ने स्वदेश के बजाय भारत में अधिक प्यार मिलने संबंधी बयान से उपजे विवाद को दरकिनार करके बांग्लादेश के खिलाफ पिछले मैच में बेहतरीन प्रदर्शन किया। उन्हें इस मामले में स्वदेश में कानूनी नोटिस भी भेजा गया है। उन्होंने पिछले मुकाबले में 19 गेंदों पर 49 रन की तूफानी पारी खेलने के अलावा दो विकेट भी लिए। मुहम्मद हफीज और अहमद शहजाद ने अर्धशतक भी जमाए।

भारतीय तिकड़ी भी दमदार :

भारतीय तेज गेंदबाजी आक्रमण भी कमतर नहीं है। इसका श्रेय धौनी को देना होगा कि वह 36 वर्षीय आशीष नेहरा को टीम में लाए। जिस यॉर्कर को सारे चयनकर्ता मिलकर खोज रहे थे उस कला को बुमराह ने अपने पास रखा था। बुमराह के पास जो कला है वह डेथ ओवरों में कामयाब है। हार्दिक पांड्या भले ही पाकिस्तानियों की तरह 145-150 किमी प्रतिघंटा की गति से गेंदबाजी नहीं कर सकते हों लेकिन प्रतिभा में वह उनसे कम भी नहीं हैं। वह सातवें-आठवें नंबर पर अच्छी बल्लेबाजी भी कर सकते हैं। हालांकि इसके बावजूद टीम इंडिया दबाव में है इसलिए धौनी भैय्या अगर यहां हारे तो भारत के लिए विश्व कप खत्म।

भारत बनाम पाकिस्तान

  • भारत ने 2007 में फाइनल में पाक को हराकर पहला टी-20 विश्व कप जीता।
  • पाकिस्तान के खिलाफ सभी टी-20 मैच भारत ने धौनी की कप्तानी में खेले हैं।
  • अफरीदी की कप्तानी में पाकिस्तान महज एक बार ही टीम इंडिया से भिड़ा है।
  • 2009 : भारत में दोनों टीमों के बीच दो मैच खेले गए हैं। जिनमें से एक-एक मैच दोनों ने जीते हैं।
  • 2009 : अहमदाबाद में टीम इंडिया द्वारा बनाया गया 192 रन का स्कोर दोनों के बीच सर्वश्रेष्ठ स्कोर है।
  • 2009 : दोनों टीमों के बीच सबसे कम स्कोर का रिकॉर्ड पाकिस्तान के नाम पर है।
  • 2009 : दोनों टीमों के बीच ईडन गार्डेंस में चार वनडे खेले हैं और भारत ने चारों मैच गंवाए हैं।
  • 2009 : वनडे विश्व कप में भारत ने पाक के खिलाफ छह मैच खेले हैं और सारे ही जीते हैं।
  • 2009 : टीम इंडिया ने 2016 में 12 टी-20 मैच खेले और 10 मैच में जीत हासिल की।
  • 2009 : ईडन पर टीम इंडिया ने दो टी-20 खेले हैं, जिसमें एक में हार और एक रद हो गया था
  • 2016 : एशिया कप में पाक 84 रनों पर सिमट गई थी।

ये भी पढ़ेंः क्रिकेट की सभी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: anand raj