नई दिल्ली, जेएनएन। भारत और श्रीलंका के बीच दिल्ली में खेला जा रहा तीसरा और आखिरी टेस्ट मैच ड्रॉ हो गया है। श्रीलंका ने दूसरी पारी में 103 ओवर में 05 विकेट के नुकसान पर 299 रन बनाए। इसके बाद दोनों टीमों के कप्तानों के बीच इस मैच को ड्रॉ कराने पर सहमति बन गई। भारत ने तीन टेस्ट मैचों की सीरीज 1-0 से अपने नाम की। सीरीज का पहला टेस्ट कोलकाता में हुआ था, जो बारिश के कारण ड्रॉ रहा था। दूसरा टेस्ट नागपुर में हुआ था जिसे भारत ने पारी और 239 रनों से अपने नाम किया था। दिल्ली में हुआ तीसरा टेस्ट मैच भी ड्रॉ रहा। विराट कोहली को 'प्लेयर ऑफ द मैच' और 'प्लेयर ऑफ दी सीरीज' का पुरस्कार भी दिया गया। 

इस श्रीलंकाई तिकड़ी ने बचाया मैच

दिल्ली टेस्ट मैच खत्म होने के दौरान रौशन सिल्वा 74 और निरोशन डिकवेला 44 रन बनाकर नाबाद रहे। यह रौशन सिल्वा के टेस्ट करियर का पहला अर्धशतक रहा। उनके और निरोशन डिकवेला के बीच 94 रनों की अविजित साझेदारी भी हुई। इससे पहले, धनंजय डी सिल्वा ने अपने टेस्ट करियर का तीसरा शतक पूरा किया, लेकिन दर्द की वजह से वह 119 रनों के स्कोर पर रिटायर्ड हर्ट होकर मैदान से बाहर चले गए। इन तीनों श्रीलंकाई बल्लेबाजों ने इस मैच को ड्रॉ कराने में अहम भूमिका निभाई। वरना एक समय ऐसा लग रहा था कि चौथी पारी में 410 रनों के लक्ष्य के सामने श्रीलंकाई टीम मैच गंवा बैठेगी।   

जडेजा की नो-बॉल ने बनाया-बिगाड़ा खेल

पांचवें दिन की शुरुआत में रवींद्र जडेजा ने एंजेलो मैथ्यूज (01) को स्लिप में अजिंक्य रहाणे के हाथों कैच करवाकर श्रीलंकाई टीम को चौथा झटका दिया। हालांकि बाद में रीप्ले देखने पर पता चला कि जडेजा का पैर निर्धारित लाइन से आगे पिच हुआ था और यह डिलीवरी नो बॉल थी, पर तब अंपायरों ने इस ओर ध्यान नहीं दिया। जडेजा ने एक 43.3 ओवर में श्रीलंकाई कप्तान दिनेश चांडीमल को बोल्ड कर दिया था, लेकिन यह भी नो-बॉल थी। हालांकि, इस बार अंपायरों ने गलती नहीं की और जडेजा की नो-बॉल को पकड़ लिया। अश्विन ने चांडीमल (36) को बोल्ड कर श्रीलंका को पांचवां झटका दिया। चांडीमल ने धनंजय डी सिल्वा (119) के साथ मिलकर शतकीय साझेदारी भी की। हालांकि इसके बाद डी सिल्वा रिटायर्ड हर्ट होकर 76 ओवर के बाद मैदान से बाहर चले गए। 

श्रीलंका के तीन विकेट गिरे

दिल्ली टेस्ट मैच के चौथे दिन के आखिरी सत्र में जीत के लिए मिले 410 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी श्रीलंका की टीम का पहला विकेट समाराविक्रमा के तौर पर गिरा। उन्हें मो. शमी ने 5 रन पर आउट किया। समाराविक्रमा का कैच रहाणे ने पकड़ा। इसके बाद जडेजा ने 13 रन पर खेल रहे करुणारत्ने को विकेटकीपर साहा के हाथों कैच आउट करवाकर भारत को दूसरी सफलती दिला दी। इसी ओवर में जडेजा ने नाइट वॉचमैन के तौर पर आए सुरंगा लकमल को बोल्ड कर श्रीलंका को तीसरा झटका दे दिया।

दूसरी पारी में ऐसे गिरे भारत के 5 विकेट

भारत ने दूसरी पारी 05 विकेट के नुकसान पर 246 रन बनाकर पारी घोषित कर दी। इससे पहले, भारत के पहले विकेट के रूप में मुरली विजय 9 रन बनाकर लकमल की गेंद पर विकेटकीपर डिकवेला को कैच दे बैठे। कप्तान कोहली ने अजिंक्य रहाणे को खराब फॉर्म से उबरने का मौका ऊपर भेज कर दिया, लेकिन वो 10 रन बनाकर परेरा की गेंद पर संदकन को कैच दे बैठे और भारत को लगा दूसरा झटका। चेतेश्वर पुजारा अपने अर्धशतक से ठीक पहले 49 रन पर धनंजय डी सिल्वा का शिकार बने और मैथ्यूज ने उन्हें स्लिप में कैच किया। तेज अंदाज में खेल रहे शिखर धवन संदकन की गेंद पर बड़ा शॉट खेलने के चक्कर में आगे बढ़े और डिकवेला ने उन्हें स्टंप कर दिया। धवन ने 67 रनों की अपनी पारी के दौरान 2,000 टेस्ट रन भी पूरे कर लिए हैं। विराट कोहली (50) को गमागे ने लकमल के हाथों कैच आउट करवाकर भारत को पांचवां झटका दिया। जिस समय भारत ने पारी घोषित की तब रोहित शर्मा 50 और रवींद्र जडेजा 04 रन बनाकर खेल रहे थे। 

तीसरे दिन का हाल

तीसरे दिन के खेल में पूर्व श्रीलंकाई कप्तान एंजेलो मैथ्यूज ने दो साल बाद टेस्ट क्रिकेट में शतक जमाया और चांडीमल के साथ मिलकर 181 रन की साझेदारी की। इसके बाद वो 111 रन के स्कोर पर अश्विन की गेंद पर साहा को कैच दे बैठे और भारत को ऐसे मिली तीसरे दिन की पहली सफलता। रिद्दीमान साहा ने इशांत शर्मा की गेंद पर 33 रन पर खेल रहे सदीरा का बेहतरीन कैच लेकर उनकी पारी पर ब्रेक लगा दिया। इसके बाद अश्विन ने अगले ही ओवर में अपना पहला मैच खेल रहे रोशन सिल्वा (00) को धवन के हाथों कैच आउट करवाकर एक बार फिर से भारत को मजबूत स्थिति में पहुंचा दिया। अश्विन ने ही डिकवेला को शून्य के स्कोर पर बोल्ड करके श्रीलंका को सातवां झटका दिया। इसके बाद शमी ने लकमल को 05 रन के स्कोर पर साहा के हाथों कैच करवाकर मेहमान टीम को आठवां झटका दिया। इसके बाद जडेजा ने गमागे (01) को एलबीडब्ल्यू आउट कर श्रीलंका को नौवां झटका दे दिया। भारतीय टीम तीसरे दिन श्रीलंकाई पारी का समापन नहीं कर सकी।

दूसरे दिन का हाल

दूसरे दिन के खेल में श्रीलंका की पारी शुरु हुई तो शमी ने पहली ही गेंद पर दिमुथ करुणारत्ने (00) को विकेटकीपर साहा के हाथों कैच आउट करवा कर भारत को पहली सफलता दिला दी। इसके बाद इशांत शर्मा ने धनंजय डी सिल्वा (01) को एलबीडब्ल्यू आउट कर भारत को दूसरी सफलता दिला दी। 42 रन पर खेल रहे दिलरुवान परेरा को जडेजा ने एलबीडब्ल्यू आउट कर भारत को तीसरी सफलता दिला दी। पहले जब जडेजा ने अपील की तो अंपायर ने परेरा को आउट नहीं दिया फिर कप्तान कोहली ने रिव्यू लिया तो थर्ड अंपायर के निर्देश के बाद अंपायर को अपना फैसला बदलना पड़ा और टीम इंडिया को मिली तीसरी सफलता।

ऐसा रहा पहले दिन का हाल

पहले दिन के खेल में शिखर धवन (23) पहले विकेट के रूप में आउट हुए। उन्हें दिलरुवान परेरा ने लकमल के हाथों कैच करवाया। यह परेरा का 100वां टेस्ट विकेट भी रहा। वह सबसे तेज 100 विकेट लेने वाले श्रीलंकाई गेंदबाज बन गए हैं। 23 रन बनाकर खेल रहे पुजारा गमागे की गेंद पर सदीरा को कैच दे बैठे और भारत को लगा दूसरा झटका। मुरली विजय ने कमाल की पारी खेलते हुए 155 रन बनाए। उन्हें संदकन ने अपनी गेंद पर विकेट के पीछे स्टंप आउट करवा दिया। मुरली ने विराट के साथ मिलकर तीसरे विकेट के लिए 283 रन की साझेदारी की। अजिंक्य रहाणे एक बार फिर से फ्लॉप रहे। संदकन की गेंद पर विकेट के पीछे डिकवेला ने उन्हें स्टंप आउट कर दिया। रहाणे ने एक रन बनाया। श्रीलंका की तरफ से खेल के पहले दिन संदकन को दो सफलता मिली और उन्होंने मुरली व रहाणे को आउट किया। इसके अलावा गामागे और परेरा को एक-एक विकेट मिले। भारत के लिए रोहित शर्मा ने 65 और विराट कोहली ने 243 रन बनाए। 

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें  

Posted By: Bharat Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप