नई दिल्ली, जेएनएन। भारतीय तेज गेंदबाज उमेश यादव ने जसप्रीत बुमराह की सारी मेहनत पर पानी फेर दिया, जिसके चलते भारत को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले टी-20 मुकाबले में वाईआर शेखर रेड्डी एसीए-वीडीसीए क्रिकेट स्टेडियम में तीन विकेट से हार झेलने पर मजबूर होना पड़ा। अंतिम 12 गेंदों पर ऑस्ट्रेलिया को 16 रन की जरूरत थी और उसके पांच विकेट हाथ में थे।

19वें ओवर में बुमराह ने शानदार गेंदबाजी करके भारत की मैच में वापसी कराई। इस ओवर में उन्होंने सिर्फ दो रन दिए और लगातार दो विकेट लेकर ऑस्ट्रेलिया को बैकफुट पर ढकेल दिया। अब आखिरी ओवर में ऑस्ट्रेलिया को 14 रन की दरकार थी। गेंद उमेश के हाथ में थी और लग रहा था कि भारत रोमांचक मुकाबले को अपने नाम करने में सफल होगा, लेकिन इस ओवर में झेई रिचर्डसन और पैट कमिंस ने उमेश की गेंदों की पिटाई करते हुए अपनी टीम को जीत दिलाई। भारत ने 20 ओवर में सात विकेट पर 126 रन बनाए थे। ऑस्ट्रेलिया ने सात विकेट पर 127 रन बनाकर आखिरी गेंद पर मैच जीता। बुमराह ने चार ओवर में सिर्फ 16 रन देकर तीन विकेट झटके।

लक्ष्य का पीछा करने उतरी ऑस्ट्रेलियाई टीम को दूसरे ओवर में ही पहला झटका लगा, जब मार्कस स्टोइनिस (01) रन आउट हो गए। बुमराह ने कप्तान आरोन फिंच (00) को पहली ही गेंद पर एलबीडब्ल्यू आउट कर पवेलियन भेज दिया। इसके बाद डार्सी शॉर्ट (37) और ग्लेन मैक्सवेल (56) ने तीसरे विकेट के लिए 84 रन की साझेदारी कर लगभग भारत को मैच से बाहर कर दिया था। 89 रन के कुल स्कोर पर मैक्सवेल को युजवेंद्रा सिंह चहल ने आउट करके ऑस्ट्रेलिया को तीसरा झटका दिया। मैक्सवेल ने 43 गेंद की पारी में छह चौके और दो चौके लगाए। 15 ओवर के बाद मैच ने रोमांचक रुख अपनाया। शॉर्ट को क्रुणाल पांड्या और महेंद्र सिंह धौनी की जुगलबंदी ने रन आउट करके पवेलियन का रास्ता दिखाया। शॉर्ट ने 37 गेंद की अपनी पारी में पांच चौके लगाए। अगले ही ओवर में एश्टन टर्नर (00) को पांड्या ने बोल्ड कर भारत की वापसी की उम्मीदें जगाई।

आखिरी दो ओवर में ऑस्ट्रेलिया को जीत के लिए 16 रन की जरूरत थी और उसके पांच विकेट बाकी थे। बुमराह ने 19वें ओवर में सिर्फ दो रन दिए और पीटर हैंड्सकोंब (13) व नाथन कूल्टर नाइल (04) को लगातार गेंदों पर पवेलियन भेज दिया। आखिरी ओवर में उमेश ने बेहद ही निराश करते हुए खराब गेंदबाजी की। उन्होंने पहली गेंद पर एक रन दिया, लेकिन अगली ही गेंद पर रिचर्डसन ने चौका जड़ दिया। अगली दो गेंद पर कुल तीन रन आए। आखिर की दो गेंद पर ऑस्ट्रेलिया को छह रन की दरकार थी। पैट कमिंस (07) ने पांचवीं गेंद पर चौका लगाया और आखिरी गेंद पर दो रन निकालकर ऑस्ट्रेलिया को तीन विकेट से मैच में जीत दिलाई।

इससे पहले टॉस जीतकर ऑस्ट्रेलियाई कप्तान फिंच ने भारतीय टीम को पहले बल्लेबाजी करने का न्योता दिया। टीम प्रबंधन ने शिखर धवन की जगह केएल राहुल को उतारकर यह साबित कर दिया कि उनकी विश्व कप रणनीति में राहुल शामिल हैं। इसकी वजह से टीम प्रबंधन उन्हें विश्व कप से पहले फॉर्म में लौटने के भरपूर मौके देना चाहता है। राहुल ने यह साबित भी किया। वहीं उनके साथ सलामी बल्लेबाजी करने आए उप कप्तान रोहित शर्मा (05) जेसन बेहरनड्रॉफ की गेंद पर एडम जांपा को कैच थमाकर लौट गए। न्यूजीलैंड में आखिरी तीन वनडे नहीं खेलने वाले विराट कोहली (24) लंबे ब्रेक के बाद मैदान पर लौटे थे। कप्तान विराट से विशाखापत्तनम के दर्शकों को बड़ी पारी की उम्मीद थी, जैसा वह यहां पहले भी करते आए हैं। हालांकि इस बार विराट इस मैदान पर किसी भी प्रारूप में अपने सबसे कम स्कोर पर आउट होकर पवेलियन लौट गए। 69 रन पर दो विकेट गिरने के बाद भारत पर खतरा मंडराने लगा था। यह तब और पुख्ता हो गया जब रिषभ पंत (03) बेहरनड्रॉफ के एक शानदार प्रयास पर रन आउट हो गए। क्रीज पर महेंद्र सिंह धौनी (नाबाद 29) पहुंचे तो राहुल ने भी हाथ खोलने शुरू कर दिए। जल्द ही राहुल ने अपना अर्धशतक पूरा किया, लेकिन इसी स्कोर पर उनकी पारी का अंत नाथन कूल्टर नाइल ने उन्हें फिंच के हाथों कैच कराकर किया।

राहुल ने 36 गेंद की अपनी पारी में छह चौके और एक छक्का लगाया। इसी ओवर में नाइल ने दिनेश कार्तिक (01) को क्लीन बोल्ड करके 94 रन पर ही भारत की आधी टीम पवेलियन भेज दी। न्यूजीलैंड में अपनी गेंदबाजी से प्रभावित करने वाले क्रुणाल पांड्या (01) को क्रीज पर खड़े धौनी का साथ देना चाहिए था, लेकिन शानदार फॉर्म में चल रहे नाइल ने उन्हें भी ग्लेन मैक्सवेल के हाथों कैच कराकर भारत को छठां झटका दे दिया। यहां से भारत के लिए बड़ा स्कोर खड़ा करना चुनौती बन चुकी थी और सामने अकेले बल्लेबाज धौनी खड़े थे। उमेश यादव (02) का विकेट गिरने के बाद भारत के पास 19 गेंद बची थीं।

टीम प्रबंधन और दर्शक धौनी से उम्मीद लगाए बैठे थे। लग रहा था कि वह 19 गेंद में कुछ गेंदों को जरूर मैदान से बाहर पहुंचाएंगे। क्रीज पर आए युजवेंद्रा सिंह चहल (00) ने चार गेंद बेकार कीं, जबकि धौनी 15 गेंद में सिर्फ 19 रन ही जुटा पाए। गेंद को मैदान के बाहर भेजने के प्रयास में धौनी लगातार चूक रहे थे और एक रन भी नहीं ले पा रहे थे। धौनी आखिरी बची 19 गेंद पर सिर्फ एक छक्का लगा पाए। हालांकि, वह भारत को 124 रनों के स्कोर पर पहुंचाने में कामयाब जरूर हो गए। धौनी ने अपनी पारी में 37 गेंद खेलकर सिर्फ एक ही छक्का लगाया। ऑस्ट्रेलिया की ओर से नाइल ने चार ओवर में 26 रन देकर सबसे ज्यादा तीन विकेट निकाले। इसके अलावा पैट कमिंस, जांपा, बेहरनड्रॉफ को एक-एक विकेट मिला।

Posted By: Sanjay Savern

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस