नई दिल्ली, जेएनएन। न्यूजीलैंड और इंग्लैंड के बीच लंदन के लॉर्ड्स मैदान पर खेला गया दो मैचों की टेस्ट सीरीज का पहला मुकाबला पांचवें दिन ड्रॉ के रूप में समाप्त हुआ। हालांकि, इस मैच का नतीजा हार और जीत के रूप में भी निकल सकता था, लेकिन बारिश की वजह से ऐसा नहीं हुआ। दरअसल, मैच के तीसरे दिन बारिश ने खेल बिगाड़ा और एक भी ओवर का खेल नहीं हो सका। अगर उस दिन आधे ओवरों का खेल भी हुआ होता तो मैच का नतीजा कुछ और होता।

बहरहाल, न्यूजीलैंड की टीम ने अपनी दूसरी पारी छह विकेट पर 169 रन बनाकर घोषित कर दी। इस तरह इंग्लैंड को 273 रनों का लक्ष्य मिला। उधर, लक्ष्य का पीछा करते हुए इंग्लैंड ने तीन विकेट पर 170 रन बना लिए थे। आखिरी दिन कुछ ही ओवर बाकी थे और दोनों टीमों के कप्तानों ने ड्रॉ पर सहमति जता दी, क्योंकि किसी भी कप्तान को उम्मीद नहीं लग रही थी कि उनकी टीम ये मुकाबला जीत जाएगी, क्योंकि इंग्लैंड के हाथ में काफी विकेट थे।

वहीं, मेजबान टीम की ओर से डॉम सिब्ले 60 रन और ओली पोप 20 रन बनाकर खेल रहे थे। 6 और बल्लेबाजों को उतरना था। ऐसे में कीवी टीम के कप्तान को भी लगा कि मैच को ड्रॉ पर ही समाप्त किया जाए तो ठीक है, क्योंकि न्यूजीलैंड के गेंदबाज विकेट नहीं निकाल पा रहे थे। तीन सफलताओं में से दो सफलताएं नील वैगनर ने अपने नाम कीं, जबकि एक विकेट टिम साउथी ने चटकाया, जब उन्होंने जैक क्रॉल को चलता किया।

इस मैच की बात करें तो न्यूजीलैंड ने डेवोन कॉनवे के दोहरे शतक की बदौलत पहली पारी में 378 रन बनाए थे। वहीं, मैच का तीसरा दिन बारिश में धुल गया और चौथे दिन इंग्लैंड ने रोरी बर्न्स के शतक की बदौलत अपनी पहली पारी में 275 रन बनाए। इस तरह कीवी टीम को 103 रनों की बढ़त हासिल हुई। न्यूजीलैंड की टीम ने अपनी दूसरी पारी पांचवें दिन 62/2 रन से आगे बढ़ाई। भोजनकाल की घोषणा के साथ ही उसने पारी घोषित कर दी। इंग्लैंड ने दूसरी पारी में सलामी बल्लेबाज रोरी बर्न्‍स (25) का विकेट जल्दी गंवा दिया था। जैक क्रॉले दो व जो रूट 40 रन बनाकर आउट हुए।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप