नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस ने आज यह खुलासा कर ही दिया कि आईपीएल के छठे सत्र में राजस्थान रॉयल्स के तीन गद्दार खिलाड़ी एस श्रीसंत, अजीत चंडीला और अंकित चावन ने किस तरह स्पॉट फिक्सिंग की। दिल्ली पुलिस के अनुसार आईपीएल के इस सीजन के तीन मैच फिक्स थे।

बुकी और खिलाड़ी आपस में कोडवर्ड में बातें करते थे। आइए जानते हैं वो तीन कोडवर्ड, जिसके जरिए बुकी खिलाड़ियों का इशारा समझ जाते थे, जबकि दूसरे खिलाड़ियों को इसकी भनक तक नहीं लगती थी।

1. तौलिया : यह कोडवर्ड है टीम इंडिया की तरफ से टेस्ट मैच खेल चुके एस श्रीसंत का। जी हां, गेंदबाजी से पहले श्रीसंत इसी कोडवर्ड के जरिए बुकी को इशारा करते थे, जिससे बुकी अपने काम में जुट जाते थे। 9 मई को पंजाब के खिलाफ श्रीसंत को अपने स्पेल के दूसरे ओवर में 14 या उससे अधिक रन देने थे। इसके लिए उन्हें बुकी को पैंट के आगे तौलिया लटकाना था, जो कि कोडवर्ड था।

2. टीशर्ट : स्पॉट फिक्सिंग का यह कोडवर्ड राजस्थान रॉयल्स के अजीत चंडीला का था। चंडीला को मैच के दौरान अपनी टीशर्ट उठानी थी, जो कि बुकी के लिए कोडवर्ड था। 5 मई को अपने स्पेल के दूसरे ओवर में चंडीला को 14 या उससे अधिक रन देने थे। उन्होंने ऐसा ही किया, लेकिन उनसे एक बड़ी भूल हो गई। वे ओवर से पहले अपना टीशर्ट उठाना भूल गए, जिसके कारण बुकी ने उन्हें पहले से तय 20 लाख रुपये नहीं दिए।

3. घड़ी : यह कोडवर्ड है राजस्थान रॉयल्स के अंकित चावन का। चावन को इस शर्मनाक खेल में उनके दोस्त अजीत चंडीला लेकर आए थे। उनकी डील भी चंडीला ने ही की थी। चावन को 15 मई को मुंबई इंडियंस के खिलाफ मुकाबले में स्पेल के दूसरे ओवर में 14 रन देने थे। इसके लिए 60 लाख रुपये में सौदा तय हुआ था। पहले तो चावन को रिस्ट बैंड से संकेत करना था, लेकिन बाद में यह फिक्स हुआ कि चावन घड़ी से इशारे करेंगे।

अब तो आईपीएल के मुकाबलों में कोई खिलाड़ी ऐसी हरकतें करता हुआ पाया गया तो सबसे पहले यही ख्याल आएगा, कहीं उसने भी स्पॉट फिक्सिंग तो नहीं की? बेहद शर्मनाक! श्रीसंत, चंडीला और चावन ने भारतीय क्रिकेट को दागदार कर दिया।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस