[अजय पांडेय] नई दिल्ली। इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के क्रिकेट मैचों पर लगे फिक्सिंग के दाग से इस खेल की साख पर बट्टा लगा ही, यह भी पता चला है कि इसके आयोजन के दौरान लाखों दर्शकों की जान से भी खिलवाड़ हो रहा है। कम से कम दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान में मैच देखने आने वाले क्रिकेट प्रेमियों की सुरक्षा की गंभीर अनदेखी जरूर की जा रही है। इसी खतरे के मद्देनजर दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) ने इस स्टेडियम के सुरक्षा इंतजामों की जांच करने के आदेश दिए हैं।

प्राधिकरण ने अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट (एडीएम) की अगुवाई में ग्यारह सदस्यीय समिति का गठन कर स्टेडियम की सुरक्षा के प्रत्येक पहलू की बारीकी से जांच कर 20 मई को रिपोर्ट देने को कहा है। इस कमेटी में दिल्ली अग्निशमन सेवा, दिल्ली पुलिस, दिल्ली नगर निगम, दिल्ली सरकार के राजस्व, स्वास्थ्य तथा खाद्य आपूर्ति विभाग सहित विभिन्न संबंधित विभागों के अधिकारियों को शामिल किया गया है। ताजा हालात के मद्देनजर 21 व 22 मई को इस स्टेडियम में होने वाले आईपीएल मैचों के आयोजन पर भी सवाल खड़ा हो गया है।

डीडीएमए ने बृहस्पतिवार को जारी आदेश संख्या एफ.नं.डीसी/सी/ डीआरएम/फायर सेफ्टी एनडीआरएफ/2013 के तहत कहा है कि पिछले मैच के दौरान किए गए निरीक्षण के दौरान चौंकाने वाली बातें सामने आईं। स्टेडियम परिसर में मैच के दौरान खाना पकाने के लिए बड़ी संख्या में रसोई गैस सिलेंडरों का उपयोग किया जा रहा था। यहां तैनात एंबुलेंस में न कर्मचारी थे और न ही जरूरी उपकरण। हादसे के दौरान लोगों का बचाव करने वाली खोज व बचाव टीम भी मौजूद नहीं थी।

डीडीएमए के संयोजक तथा दिल्ली के मंडलायुक्त धर्मपाल ने पूछने पर स्वीकार किया कि आपदा प्रबंधन के मद्देनजर जरूरी इंतजामात में कमी पाई गई थी, लिहाजा आयोजकों को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। डीडीएमए ने अपने आदेश में स्पष्ट शब्दों में कहा है कि बार-बार निर्देश देने के बावजूद दिल्ली एंड डिस्टिक्ट क्रिकेट एसोसिएशन (डीडीसीए) ने आपदा प्रबंधन कानून, 2005 को लागू करने में जरा भी रुचि नहीं दिखाई और न उसे इस कानून की फिक्र है। डीडीएमए के आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि एडीएम सेंट्रल की अगुवाई वाली जांच समिति 20 मई को फिरोजशाह कोटला क्रिकेट मैदान का दौरा करेगी। समिति को निर्देश दिया गया है कि वह मैदान और आसपास सुरक्षा इंतजामों की विस्तार से जांच करे और यह सुनिश्चित करे कि किसी भी शर्त पर सुरक्षा नियमों की अवहेलना नहीं होने पाए। डीडीएमए ने तीन पन्नों के आदेश में दिल्ली पुलिस के लाइसेंसिंग विभाग को भी यह ताकीद की है कि जांच समिति की रिपोर्ट प्रतिकूल आती है तो वह इस मैदान में 21 व 22 मई को होने वाले क्त्रिकेट मैच के आयोजन की अनुमति नहीं दे।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस