(जयकृष्ण वाजपेयी) कोलकाता। वर्तमान आईपीएल परिप्रेक्ष्य में बीसीसीआइ प्रमुख एन श्रीनिवासन ने जो बिसात बिछाई है, लग रहा है कि उसका कोई जोड़ नहीं है। सूत्रों की मानें तो बीसीसीआइ के पूर्व अध्यक्ष जगमोहन डालमिया की डिनर पार्टी को उन्होंने अपनी कुर्सी बचाने का जुगाड़ बना लिया। खबर यह है कि 31 सदस्यीय बीसीसीआइ के 17 सदस्य श्रीनिवासन के साथ खड़े हैं।

बात यदि श्रीनिवासन के सियासी बिसात की करें तो वह लाजवाब दिख रहा है। अपने दामाद की गिरफ्तारी के बावजूद क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बंगाल के अध्यक्ष तथा बीसीसीआइ ही नहीं, आइसीसी को कभी अपनी अंगुली पर नचाने वाले जगमोहन डालमिया जैसे धुरंधर की डिनर पार्टी के लिए चार्टर्ड विमान से श्रीनिवासन का कोलकाता पहुंचना बड़ा ही दिलचस्प विषय जान पड़ता है। सूत्रों के मुताबिक शनिवार की रात को ऐसा लग रहा था कि डालमिया की पार्टी तो सिर्फ एक बहाना है, यहां अध्यक्ष की कुर्सी बचाने की बिसात बिछी हुई थी।

कोलकाता के पांचतारा होटल में जब बीसीसीआइ के अधिकारी, पदाधिकारी की लंबी-लंबी महंगी गाड़ियां घुस रही थीं तो उनकी खिड़कियों पर लगे काले व सादे कांच से अंदर झांकने की मीडिया वाले भरपूर कोशिश कर रहे थे। मीडिया वाले होटल के बाहर बैठे उस खबर की ओर नजर लगाए हुए थे कि अंदर आखिर क्या खिचड़ी पक रही है। लंबी गाड़ी में श्रीनिवासन भी वहां पहुंचे। उनके चेहरे पर परेशानी के भाव थे। आइपीएल अध्यक्ष राजीव शुक्ला व डालमिया भी होटल पहुंचे।

श्रीनिवासन ने वहां मौजूद बीसीसीआइ के 17 सदस्यों से वन-टू-वन बात की। इसके बाद उनके चेहरे की परेशानी पूरी तरह से गायब हो गई। बैठक में बीसीसीआइ उपाध्यक्ष व भाजपा के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली, संयुक्त सचिव अनुराग ठाकुर उपस्थित नहीं थे। इसके अलावा झारखंड, ओडिशा व त्रिपुरा क्रिकेट संघों के भी प्रतिनिधि नहीं पहुंचे।

अब रविवार को आईपीएल फाइनल मैच से पहले बीसीसीआइ की बोर्ड मीटिंग कोलकाता में होती है या नहीं, इसे लेकर संदेह पैदा हो चुका है। खबर यह भी है कि श्रीनिवासन ने अपने धुर-विरोधी डालमिया के कंधे पर बंदूक रखकर विरोधियों को धूल चटाने की बिसात बिछा दी है। इसके इतर बंगाल के क्रिकेट जानकार मानते हैं कि अध्यक्ष पद की कुर्सी के लिए वोटिंग हुई तो स्थिति बदल भी सकती है।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप