कोलकाता, जागरण ब्यूरो। स्पॉट फिक्सिंग के फांस में फंसी चेन्नई सुपरकिंग्स के लिए रविवार को मुंबई इंडियंस के खिलाफ आइपीएल-6 के फाइनल में तीसरी बार चैंपियन बनने का सपना पूरा करने की डगर आसान नहीं होगी। चेन्नई टीम के सीईओ गुरुनाथ मयप्पन की सट्टेबाजी के आरोप में हुई गिरफ्तारी से निश्चित रूप से महेंद्र सिंह धौनी की अगुआई वाली टीम का मनोबल गिरा है।

मयप्पन टीम के मालिक और बीसीसीआइ अध्यक्ष एन श्रीनिवासन के दामाद हैं। खिलाड़ियों और उनके कप्तान के लिए इस हालात से उबरकर उस टीम के खिलाफ अपना नैसर्गिक खेल दिखाना कड़ी चुनौती होगी, जो आईपीएल की पहली ट्रॉफी जीतने के लिए बेताब है। चेन्नई लगातार चार और कुल मिलाकर पांच बार फाइनल में पहुंच चुकी है, लेकिन मुंबई के लिए खिताब जीतने और 2010 के फाइनल में मिली हार का बदला चुकता करने का यह सर्वश्रेष्ठ मौका होगा।

यह मुकाबला चेन्नई टीम ही नहीं, बल्कि उनके मालिक श्रीनिवासन के लिए भी अहम है। उनकी कुर्सी दांव पर है और खिताब जीतकर सुपर किंग्स उन्हें थोड़ी राहत दे सकती है। फिक्सिंग से जुड़े सवालों से बचने के लिए दोनों टीमों के कप्तान धौनी और रोहित शर्मा ने मैच की पूर्व संध्या पर होने वाले संवाददाता सम्मेलन में भाग नहीं लिया। वे नहीं चाहते थे कि असुविधाजनक सवालों से उनकी टीमों पर मैच के पहले कोई अतिरिक्तदबाव बने।दोनों टीमों के कोचों ने मीडिया को ब्रीफ किया।

माना जा रहा है कि मुंबई की टीम अपने सीनियर बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर को यह ट्रॉफी भेंट स्वरूप देना चाहेगी। महान क्रिकेटर के ड्राइंग रूम में सिर्फ इसी ट्रॉफी की कमी है। 2010 में वह मुंबई इंडियंस के कप्तान थे और टीम फाइनल में धौनी की टीम से 22 रन से हार गयी थी, जिससे वह काफी दुखी हो गए थे। वो चेन्नई सुपरकिंग्स का पहला आइपीएल खिताब था, इसके बाद से धौनी की टीम का दर्जा बढ़ता चला गया।

कागज पर यह द्वंद्व बराबरी का होगा क्योंकि चेन्नई और मुंबई दोनों में ट्वेंटी-20 के आक्रामक विशेषज्ञ माइकल हसी, ड्वेन स्मिथ, रवींद्र जडेजा और कीरोन पोलार्ड जैसे दिग्गज शामिल हैं। दोनों टीमों का तेज गेंदबाजी आक्रमण भी काफी धारदार है। चेन्नई के पास एल्बी मोर्केल और सत्र की खोज मोहित शर्मा हैं, जबकि मुंबई के लिए मिशेल जॉनसन, लसिथ मलिंगा और पोलार्ड की तिकड़ी शानदार प्रदर्शन कर रही है।

ऐसे हालात में जहां स्पिन गेंदबाज निर्णायक साबित हो सकते हैं, चेन्नई में रविचंद्रन अश्विन और रवींद्र जडेजा के रूप में स्टार गेंदबाज मौजूद हैं लेकिन मुंबई की टीम भी अपने अनुभवी हरभजन सिंह और प्रज्ञान ओझा के रूप में इसकी बराबरी कर सकती है। राजस्थान रॅायल्स के खिलाफ शुक्रवार को 23 रन देकर तीन विकेट हासिल कर फॉर्म में वापसी करने वाले हरभजन से उम्मीद है कि वह अच्छा प्रदर्शन करेंगे।

स्मिथ की शानदार फॉर्म भी मुंबई के लिए फायदेमंद रहेगी जो उम्मीद लगाए होगी कि वेस्टइंडीज का यह खिलाड़ी दोबारा आक्रामक प्रदर्शन करेगा। चेन्नई की टीम में 'ऑरेंज कैपधारी' माइकल हसी शामिल हैं, जिन्होंने 732 रन बनाए हैं। वह सुरेश रैना के साथ योगदान करना चाहेंगे, जिन्होंने नाबाद 100 रन समेत 548 रन जोड़े हैं।

दिलचस्प है कि रोहित 2009 में डेक्कन चार्जर्स की खिताबी जीत का हिस्सा थे और मुंबई के कप्तान के लिए यह दूसरा फाइनल होगा। चेन्नई सुपर किंग्स के कोच स्टीफन फ्लेमिंग के मुताबिक स्पॉट फिक्सिंग के मौजूदा विवाद के बाद टीम के खिलाड़ी काफी स्ट्रेस में हैं। इससे उनके प्रदर्शन पर खासा प्रभाव पड़ सकता है। टीम के खिलाड़ियों और सपोर्ट स्टाफ का फिक्सिंग और सट्टेबाजी से कोई लेना-देना नहीं है।

मुंबई इंडियंस के कोच जॉन राइट ने अपनी टीम के फाइनल में पहुंचे पर खुशी जताई है। उन्होंने कहा कि अगर हमने पिछले मैच में अच्छा प्रदर्शन नहीं किया होता तो हम यहां नहीं होते, हमें इससे सबक लेने की जरूरत है। यह शानदार लीग है। हमने कई कड़े मैच खेले, रविवार का मैच भी अलग नहीं होगा। यह एक कड़ा मुकाबला होगा।' इडेन गार्डंस मुंबई के लिए भाग्यशाली मैदान रहा है जिसमें उसने छह में से पांच मैच अपने नाम किये हैं, यह आंकड़ा निश्चित रूप से रोहित की टीम का मनोबल बढ़ाएगा।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप