वीवीएस लक्ष्मण का कॉलम:

सनराइजर्स हैदराबाद के पिछले दो मैचों में काफी रन बने। दुर्भाग्य से हमें दोनों मैचों में हार का सामना करना पड़ा। यदि कोई सांत्वना की बात रही तो वह यह कि हमने विरोधी बल्लेबाजों की तुलना में कुछ असाधारण बल्लेबाजी की। हमारे बल्लेबाजों ने अपने आत्मविश्वास को कोई नुकसान नहीं पहुंचाया।

चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाफ अंबाती रायुडू के मास्टर क्लास खेल ने हमें हरा दिया। उन्होंने शानदार शॉट खेलकर बेहतरीन शतक पूरा किया। रायुडू के लिए मेरे पास हमेशा काफी समय रहा है और इसमें कोई शक नहीं कि मैंने उन्हें बल्ले से सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए देखा है। यह आश्चर्यजनक है कि उन्होंने लंबे अंतराल के बाद भारतीय वनडे टीम में वापसी की और मैं उनके आगे बढऩे में इसे बड़ी चीज के रूप में देखता हूं।

हमारे पिछले मैच में गुरुवार को चिन्नास्वामी स्टेडियम में एबी डिविलियर्स और मोइन अली ने बेहतरीन नजारा पेश किया। मैं इससे सहमत हूं कि हमारी गेंदबाजी और बेहतर हो सकती थी, लेकिन आरसीबी को खुद को बनाए रखने के लिए जीतना जरूरी था और वे बिना डर के खेले। अच्छी पिच, बल्लेबाज की आक्रामक मानसिकता, छोटी बाउंड्री का मेल और यह तथ्य कि बासिल थंपी थोड़े अंतराल के बाद खेल रहे थे, इन सबने आरसीबी के बड़े स्कोर में योगदान दिया, लेकिन मुझे नहीं लगता कि हमें बहुत ज्यादा निराश होने की जरूरत है। 

केन विलियमसन ने जिस अंदाज में बल्लेबाजी की उससे हमने भी उन्हें उन्हीं की तरह जवाब दिया। मैं केन को जितना ज्यादा देखता हूं, उतना ही उनके नजरिये और उनके क्रिकेट कौशल का कायल होता हूं। रायुडू, केएल राहुल और विराट की तरह वह भी परंपरागत स्ट्रोक खेलने में विश्वास रखते हैं। इन लोगों ने दिखाया है कि यदि आप अपनी ताकत को पहचानते हैं, उसमें विश्वास रखते हैं और दिमाग से खेलते हैं तो आप गैरपरंपरागत तरीके का सहारा लिए बिना भी टी-20 क्रिकेट में सफल हो सकते हैं। ये गिनने लायक कुछ अच्छे उदाहरण हैं।

मुझे लगता है कि हम बल्ले और गेंद के साथ संपूर्ण खेल से सिर्फ एक मैच दूर हैं। मनीष पांडे को गेंद पर खूबसूरती के साथ प्रहार करते हुए देखना अच्छा लगा। हमारे लिए अगले मैच में कुछ सकारात्मक लय के साथ जाना अच्छा होगा और कोलकाता नाइटराइडर्स के खिलाफ हम अपने अंतिम लीग मैच से पहले अपने लिए यही लक्ष्य रखेंगे। लीग चरण के अभी चार मैच बाकी हैं और क्वालीफिकेशन की दो जगह के लिए अभी भी लड़ाई जारी है, जो प्रतिस्पर्धा के स्तर और इस साल के आइपीएल की प्रबलता को बताता है। हम बाहर हो सकते हैं, लेकिन मैं हमेशा की तरह ही सप्ताह के अंत में अंतिम चरण को उत्सुकता के साथ देखूंगा।

आइपीएल की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Sanjay Savern

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप