नई दिल्ली, जेएनएन। आइपीएल खत्म हो गया, लेकिन विवाद खत्म होने के नाम ही नहीं ले रहा। अब मामला ट्रॉफी सौंपने को लेकर सामने आया है। प्रशासकों की समिति (COA) की सदस्य डायना इडुल्जी ने गुरुवार को कहा कि वह आइपीएल की विजेता ट्रॉफी को इसलिए सौंपना चाहती थीं। उन्हें लगा कि बीसीसीआइ (BCCI) के कार्यवाहक अध्यक्ष सीके खन्ना ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दिल्ली में वनडे के दौरान पुरस्कार ना देकर ‘प्रोटोकॉल का अनादर’ किया था।

इडुल्जी चैंपियन टीम को ट्रॉफी सौंपना चाहती थीं, लेकिन सीओए के उनके साथी लेफ्टिनेंट जनरल रवि थोडगे ने उनकी बात नहीं मानी। थोडगे का मानना था कि अध्यक्ष द्वारा ट्रॉफी सौंपे जाने की परंपरा का निर्वाह किया जाना चाहिए। आखिर में खन्ना ने ही ट्रॉफी सौंपी। खन्ना के लिए ट्रॉफी सौंपना हमेशा प्राथमिकता रही है, लेकिन इडुल्जी ने अपने लंबे बयान में यह स्पष्ट नहीं किया कि यह उनके लिए भी इतना महत्वपूर्ण क्यों था।

इडुल्जी ने कहा, ‘सीओए की आठ अप्रैल को हुई बैठक में इस मसले पर चर्चा हुई थी। चर्चा के दौरान मैंने जिक्र किया कि कार्यवाहक अध्यक्ष (सीके खन्ना) ने दिल्ली में द्विपक्षीय मैच के दौरान ट्रॉफी सौंपने के अपने अधिकार का इस्तेमाल नहीं किया था। उन्होंने (खन्ना ने) प्रोटोकॉल का अनादर किया तथा राज्य संघ के एक पदाधिकारी को ट्रॉफी देने की अनुमति दी गई, इसलिए आइपीएल फाइनल में सीओए सदस्यों को ट्रॉफी सौंपनी चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि कार्यवाहक अध्यक्ष ने बीसीसीआइ अध्यक्ष पद का अपमान किया।’

इडुल्जी ने दावा किया कि बैठक में उन्होंने कहा था कि अगर सीओए प्रमुख विनोद राय फाइनल के दौरान उपस्थित रहते हैं तो उन्हें ट्रॉफी सौंपनी चाहिए अन्यथा उन्हें और लेफ्टिनेंट जनरल थोडगे को मिलकर ट्रॉफी सौंपनी चाहिए। इडुल्जी को गुस्सा इस बात पर आया कि खन्ना ने कार्यवाहक सचिव अमिताभ चौधरी का दो साल पुराना ईमेल दिखाया, जिसमें पूर्व आइपीएल अधिकारी ने परंपरा का निर्वाह करने की बात कही थी।

इडुल्जी ने कहा, ‘फाइनल से कुछ दिन पहले खन्ना ने कार्यवाहक सचिव अमिताभ चौधरी का एक मेल फॉरवर्ड किया, जो कि वर्ष 2017 में लिखा गया था। इसमें उन्होंने कहा था कि प्रोटोकॉल के अनुसार बीसीसीआइ अध्यक्ष को ट्रॉफी सौंपनी चाहिए।’ इस पूर्व महिला क्रिकेटर ने फिर से सवाल उठाया कि खन्ना ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे के दौरान प्रोटोकॉल का अनुसरण क्यों नहीं किया। तब डीडीसीए अध्यक्ष रजत शर्मा ने ट्रॉफी सौंपी थी। उन्होंने कहा, ‘कार्यवाहक सचिव के मेल सहित कई मेल में यह पूछा गया कि आखिर किन कारणों से कार्यवाहक अध्यक्ष ने डीडीसीए प्रतिनिधि को ट्रॉफी सौंपने की अनुमति दी, लेकिन आज तक खन्ना ने इसका जवाब देना उचित नहीं समझा। आखिर किन कारणों से उन्होंने यह फैसला किया।’

इडुल्जी ने खन्ना पर अमिताभ का ईमेल जेब में लेकर घूमने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा, ‘फाइनल वाले दिन हमेशा की तरह उनकी दिलचस्पी केवल ट्रॉफी सौंपने में थी और इसलिए उन्होंने 2017 का ईमेल अपनी जेब में रखा हुआ था।’ इडुल्जी ने आरोप लगाया कि उन्हें ट्रॉफी सौंपने से रोकने में बीसीसीआइ के कुछ लोगों ने भी पर्दे के पीछे से अहम भूमिका निभाई। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Rajat Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप