नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। दुनिया में सबसे बड़ी और लोकप्रिय क्रिकेट लीग में से एक इंडियन प्रीमियर लीग की शुरुआत 2008 में हुई थी। लोगों के बीच यह क्रिकेट और एंटरटेनमेंट का समागम पहले ही सीजन से बेहद लोकप्रिय रहा। आइपीएल इतिहास की बात करें तो मुंबई और चेन्नई की टीम सबसे सफल रही है। रोहित शर्मा के नेतृत्व में मुंबई ने 5 बार तो महेंद्र सिंह धौनी की अगुआई में चेन्नई ने 4 बार इस खिताब पर कब्जा किया है। लेकिन आइपीएल 2022 दोनों ही टीमों के लिए सबसे खराब सीजन रहा। मुंबई और चेन्नई को इस सीजन केवल 4 जीत नसीब हुई और 8 अंकों के साथ दोनों ने सीजन खत्म किया।

आइपीएल इतिहास में तीसरे नंबर पर कोलकाता की टीम है जिसने गौतम गंभीर के नेतृत्व में दो बार खिताब पर कब्जा जमाया है। उसके अलावा सनराइजर्स हैदराबाद, डेकन चार्जर्स और राजस्थान रायल्स ने इस ट्राफी पर 1-1 बार कब्जा किया है।

पहले सीजन की बात करें तो इस सीजन में ट्राफी एक ऐसी टीम ने जीती जिसके बारे में शायद ही किसी ने उम्मीद की होगी। उस टीम ने दुनिया को बता दिया कि ये टी20 क्रिकेट है बास, यहां बाजी स्टार बल्लेबाजों या गेंदबाजों से नहीं बल्कि एक संतुलित टीम से जीती जाती है। शेन वार्न की अगुआई में राजस्थान आइपीएल की पहली चैंपियन टीम बनी। उसने फाइनल में चेन्नई को हराकर ट्राफी जीती।

दूसरी बार यह खिताब भी एक ऐसी ही कमजोर दिख रही टीम डेकन चार्जर्स ने जीती। एडम गिलक्रिस्ट के नेतृत्व में उसने फाइनल मुकाबले में आरसीबी को हराया और आइपीएल के दूसरे सीजन पर कब्जा जमाया। तीसरे और चौथे सीजन में चेन्नई का दबदबा रहा। तीसरे सीजन में उसने मुंबई इंडियंस को तो चौथे सीजन में आरसीबी को हराकर ट्राफी पर कब्जा किया।

2012 यानी 5वें सीजन में आइपीएल को नया चैंपियन कोलकाता नाइट राइडर्स के रूप में मिला। गौतम गंभीर के नेतृत्व में कोलकाता ने चेन्नई को तीसरे ट्राफी से रोक दिया और फाइनल में जीत दर्ज कर चैंपियन बनी।

2013 में पहली बार रोहित के नेतृत्व में मुंबई की टीम चैंपियन बनी। मुंबई ने चेन्नई को हराकर आइपीएल की ट्राफी पर कब्जा किया। ये मुंबई का वो दौर था जब रोहित शर्मा और काइरोन पोलार्ड जैसे बल्लेबाज अपने रंग में थे।

2014 यानी आइपीएल का 7वां सीजन एक बार फिर से कोलकाता ने वापसी की और फाइनल में किंग्स इलेवन पंजाब को हराकर दूसरी बार चैंपियन बनी। 2015 में एक बार फिर से मुंबई ने फाइनल मुकाबले में चेन्नई को हराकर दूसरी बार ट्राफी जीती। 2016 जोकि आइपीएल का 9वां सीजन था, सनराइजर्स हैदराबाद ने नए कप्तान डेविड वार्नर के नेतृत्व में ट्राफी जीती। वार्नर ने पूरे सीजन 848 रन बनाए और 973 रन बनाने वाले विराट कोहली पर भारी पड़े।

10वां सीजन मुंबई ने नई टीम पुणे सुपर जाइंट्स को हराकर जीता तो 11वें सीजन में चेन्नई ने हैदराबाद को हराकर ट्राफी पर कब्जा किया। 2019 और 2020 एक के बाद एक मुंबई ने लगातार जीत दर्ज की और अपने ट्राफी की संख्या को 5 कर लिया। आखिरी सीजन जोकि 2021 में हुआ था, चेन्नई के नाम रहा।

Edited By: Sameer Thakur