नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। इंडियन प्रीमियर लीग के 14वें सीजन का दूसरा क्वालीफायर मुकाबला बेहद ही रोमांचक रहा। कोलकाता नाइटराइडर्स की टीम ने दिल्ली कैपिटल्स को आखिरी ओवर तक खिंचे मुकाबले में हराकर फाइनल में जगह पक्की की। यह महज तीसरा मौका है जब कोलकाता की टीम को फाइनल का टिकट हासिल हुआ है। लेकिन यह बात भी कमाल की है कि दोनों ही बार टीम ने आइपीएल की ट्राफी जीती थी।

दिल्ली के खिलाफ बुधवार को एकतरफा नजर आ रहे मुकाबले में लगातार विकेट खोकर मुश्किल में फंसी कोलकाता ने राहुल त्रिपाठी के छक्के से जीत हासिल की। दो गेंद पर टीम को 6 रन की जरूरत थी और इस खिलाड़ी ने छक्का लगाकर टीम को जीत दिलाई और फाइनल में पहुंचा दिया। 123 से 136 रन तक पहुंचने के बीच कोलकाता की टीम के 6 विकेट गिर गए। मतलब महज 13 रन बनाने में इन सभी विकटों को टीम ने गंवाया।

पहले बल्लेबाजी करते हुए दिल्ली ने 5 विकेट के नुकसान पर 135 रन बनाए थे। लक्ष्य का आसानी से पीछा कर जीत की तरफ बढ़ रही कोलकाता ने 123 रन पर दूसरी विकेट गंवाया और फिर विकटों की झड़ी लग गई। आखिर में राहुल ने छक्के लगाया और 1 गेंद रहते ही टीम को 3 विकेट से जीत दिलाई।

कोलकाता की टीम तीसरा बार फाइनल में

दिल्ली के खिलाफ मिली दमदार जीत के साथ ही कोलकाता ने तीसरी बार आइपीएल फाइनल में जगह पक्की कर ली। साल 2012 और 2014 में आइपीएल का फाइनल मैच खेला था। दोनों ही बार टीम ने यह ट्राफी अपने नाम की थी। कमाल की बात यह है कि इसके अलावा टीम कभी भी फाइनल में जगह नहीं बना पाई है। 2017 और 2018 में केकेआर की टीम तीसरे स्थान पर रही थी। क्वालीफायर 2 में पहले मुंबई और फिर हैदराबाद ने टीम को हराकर बाहर किया था।

यूएई में कोलकाता की हुई शानदार वापसी

कमाल की बात यह है कि इस सीजन की शुरुआत टीम ने बहुत ही खराब की थी। पहले सात में से कोलकाता की टीम को महज 2 ही जीत मिली थी। दूसरे चरण में बाकी के सात में से 5 मैच जीतकर टीम ने 14 अंक लेकर प्लेआफ में जगह पक्की की। 

Edited By: Viplove Kumar