नई दिल्ली, जेएनएन। इंडियन प्रीमियर लीग के 13वें सीजन में शुरुआत से ही चेन्नई सुपर किंग्स की टीम किसी ना किसी विवाद में फंसती नजर आई है। अब टीम के खिलाड़ी के बायो बबल को तोड़ने की वजह से महेंद्र सिंह धौनी की कप्तानी वाली टीम को नुकसान उठाना पड़ा है। टीम के गेंदबाज एम आसिफ ने बबल तोड़ा और ऐसा करने वाले वह टूर्नामेंट के पहले खिलाड़ी बन गए है।

कोरोना महामारी फैलने की वजह से इस बार का टूर्नामेंट भारत के बाहर यूएई में खेला जा रहा है। सभी टीमों को बायो बबल में रखा गया है और किसी का भी इससे बाहर जाना मना है। ऐसा करने के दोषी पाए गए खिलाड़ी को कड़ी सजा दी जाएगी। सीएसके के तेज गेंदबाज के एम आसिफ को आइपीएल के बायो बबल को तोड़ने का दोषी पाया गया है।

आसिफ ने क्यों तोड़ा बायो बबल

चेन्नई के गेंदबाज आसिफ ने कुछ दिन पहले ही बायो बबल को तोड़ा था जिसके बाद उनको क्वारंटाइन कर दिया गया। दरअसल आसिफ जिस होटल के कमरे में ठहरे हुए हैं उन्होंने उस कमरे की चाभी गुम कर दी थी। इसके बाद कमरा खुलवाने के लिए उनको होटल के रिसेप्शन एरिया तक जाना पड़ा। ऐसा करने की वजह से ही बायो बबल टूटा क्योंकि जिस एरिया में आसिफ गए थे वह बबल प्रोटोकॉल से बाहर रखा गया था।

पहली गलती की वजह से नहीं मिली सजा

आसिफ ने यह गलती जानबूझकर नहीं की थी इसलिए उनको 6 दिन के क्वारंटाइन में भेजकर ही माफ कर दिया गया। आमतौर पर कमरे की चाभी गुम हो जाने पर होटल के रिसेप्शन से ही मदद मिलती है लेकिन आसिफ को इस बात की जानकारी नहीं थी कि वह एरिया बायो बबल से बाहर है। यह गलती दोबारा होने पर आसिफ को आइपीएल से बाहर भी किया जा सकता है।

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस