विशाखापट्टनम, जेएनएन। आइपीएल 2019 के दूसरे क्वालीफायर में चेन्नई सुपर किंग्स ने एकतरफा मैच में दिल्ली कैपियल्स को 6 विकेट से हरा दिया। इस मैच में दिल्ली के बल्लेबाज क्रीज पर टिक ही पाए और एक बाद एक ताश के पत्तों की तरह बिखर गए। दिल्ली की ओर से रिषभ पंत ने सबसे ज्यादा 38 रन बनाए। इस जीत के साथ चेन्नई सुपर किंग्स ने आइपीएल इतिहास में 8वीं बार फाइनल का सफर तय किया। और इस हार के साथ दिल्ली का सुनहरा सफर खत्म हो गया। 

CSK इस सीजन में DC को तीन बार हरा चुकी है। अब 12 मई यानि रविवार को चेन्नई को हैदराबाद में मुंबई इंडियंस के साथ फाइनल मुकाबला खेलना है। दोनों टीमें 3-3 बार चैंपियन रह चुकी हैं। 

दिल्ली ने इससे पहले एलीमिनेटर के रोमांचक मैच में हैदराबाद को हराया था। जिसके बाद लग रहा था कि दिल्ली दूसरे क्वालीफायर में चेन्नई सुपरकिंग्स को कड़ी टक्कर देगी। लेकिन मैच में ऐसा लग रहा था मानो चेन्नई के सामने दिल्ली ने पहले ही हार मान ली हो। चेन्नई ने टॉस जीतकर गेंदबाजी का फैसला किया और दिल्ली को पहले बल्लेबाजी करने के लिए न्योता दिया। दिल्ली शुरुआत ही बेहद खराब रही और पॉवरप्ले में टीम ने दो अहम विकेट गंवा दिए। दिल्ली 20 ओवर में 9 विकेट खोकर 147 रन ही बना सकी। जवाब में चेन्नई ने 19 ओवरों में 4 विकेट खोकर लक्ष्य हासिल कर लिया। 

इस मैच में चेन्नई सुपर किंग्स के हाथों दिल्ली कैपिटल्स की हार के तीन अहम कारण रहे:

1. बल्लेबाजी की खराब शुरुआत

पहली पारी में बल्लेबाजी करने उतरी दिल्ली कैपिटल्स की शुरुआत ही निराशा भरी रही। पहले पॉवरप्ले में टीम ने दोनों ओपनर्स के विकेट गंवा दिए। एलीमिनेटर मैच में शानदार शुरुआत दिलाने वाले पृथ्वी शॉ महज 5 रन बनाकर चलते बने। वहीं धवन भी 18 रन पर भज्जी की बॉल पर धौनी को कैच दे बैठे। इन दो विकेट के जाने के बाद दिल्ली वापसी ही नहीं कर सकी। मुनरो (27) और अय्यर (13) भी टीम को संभालने में नाकाम रहे। इसके बाद सारा दबाव रिषभ पंत पर आ गया। हालांकि, पंत ने एक छोर से पारी संभालने की कोशिश की लेकिन विकेटों के लगातार पतझड़ के आगे उन्होंने भी घुटने टेक दिए। पंत 38 रन बनाकर चाहर की गेंद पर कैच आउट हो गए। 

2. कीमो पॉल की खराब गेंदबाजी 

चेन्नई की जीत का बड़ा कारण रही उनकी गेंदबाजी। चेन्नई के गेंदबाजों ने स्टीक बॉलिंग करते हुए लगातार विकेट हासिल किए। वहीं दिल्ली की तरफ से ट्रेन्ट बोल्ट, इशांत शर्मा, अक्षर पटेल और अमित मिश्रा ने रन रोकने की पूरी और सफल कोशिश की लेकिन एक गेंदबाज नाकाम रहा। कीमो पॉल ने 3 ओवर में 49 रन लुटा दिए। कीमो ने 16.33 की इकोनॉमी से गेंदबादी कराई। पॉल ने अपने पहले ओवर में 16 रन, दूसरे ओवर में 25 रन खर्च जबकि तीसरे ओवर में 9 रन दिए। इसके अलावा अक्षर पटेल ने 4 ओवर में 32 रन देकर एक विकेट और तेज गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट ने 4 ओवर में सिर्फ 20 रन देते हुए एक विकेट लिया। स्पिनर अमित मिश्रा ने 4 ओवर में 21 रन देकर एक विकेट जबकि इशांत शर्मा ने भी 4 ओवर में 24 रन देकर एक विकेट हासिल किया। कुल मिलाकर कीमो पॉल की खराब गेंदबाजी ही दिल्ली कैपिटल्स की हार की बड़ी वजह बनी।  

3. CSK की शानदार शुरुआत   

 

इस मैच में चेन्नई के ओपरन्स टीम को अच्छी शुरुआत देने में कामयाब रहे। इस सीजन में शेन वॉटसन ज़्यादातर मैचों में संघर्ष करते ही दिखे हैं। लेकिन इस अहम मैच में उन्होंने वापसी करते हुए अर्धशतकीय पारी खेली। दोनों ओपनर्स वॉटसन और डू प्लेसी के बीच 81 रनों की जबरदस्त साझेदारी हुई। हालांकि डू प्लेसी की शुरुआत धीमी रही लेकिन कीमो पॉल के ओवर में खूब रन बटोरे। दोनों खिलाड़ियों ने इस मैच में 50-50 रनों की पारी खेली। बेहतरीन बल्लेबाजी के लिए डू प्लेसी को मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड से नावाजा गया।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Ruhee Parvez