नई दिल्ली, जेएनएन। किंग्स इलेवन पंजाब (KXIP) ने बुधवार को मुंबई इडियंस (MI) के खिलाफ खेलते हुए है 197 रन बनाए, लेकिन फिर भी वह मैच हार गई। कीरोन पोलार्ड की ताबड़तोड़ 83 रन की पारी की बदौलत मुंबई ने इस आइपीएल (IPL) में अपनी चौथी जीत दर्ज की। पंजाब के लिए जीत बड़ी ही आसान लग रही थी, लेकिन तीन गलतियां उन पर भारी पड़ गई। आइए जानते हैं, इन तीन गलतियों के बारे में।

पहली गलती- मिडिल ऑर्डर का स्लो खेलनाः पंजाब ने मैच की शुरुआत सही तरीके से की थी। टीम ने 11 ओवर में बिना विकेट खोए 103 रन बना लिए थे, लेकिन इसके बाद केएल राहुल धीमें पड़ गए। दूसरी तरफ खेल रहे क्रिस गेल के ऊपर सारा दबाव आने लगा। 12वें ओवर में गेल 63 रन बनाकर आउट हो गए, इसके बाद आए डेविड मिलर और फिर करुण नायर ने काफी धीमा खेल दिखाया। दोनों खिलाड़ियों का स्ट्राइक रेट लगभग 84 का था। हालांकि, आखिरी ओवरों में राहुल ने तेजी से रन बनाए। मिडिल ऑर्डर अगर मोंमेटम बरकरार रखता, तो पंजाब 20 से 25 रन और बना सकती थी।

दूसरी गलती- छठे गेंदबाज की कमीः पंजाब टीम इस पूरे सीजन में पांच गेंदबाजों के साथ उतर रही है। इन पांच में एक गेंदबाज सैम कुरेन हैं, जिनको विशेषज्ञ बॉलर तो नहीं कह सकते हैं। इसी कमी के चलते पंजाब के पास विकल्प की कमी दिखी। 19वें ओवर जो कि बहुत महत्वपूर्ण था, उसे सैम ने डाला। आखिरी ओवर में 15 रन चाहिए थे और बॉलिंग की घायल अंकित राजपूत ने। पंजाब को आने वाले मैचों में इसके बारें में सोचना पड़ेगा।

तीसरी गलती- कैच बदल सकते थे मैचः पंजाब की टीम ने कई कैच गंवाए। सबसे पहले सूर्यकुमार यादव का कैच छोड़ा, उन्होंने 21 रनों की महत्वपूर्ण पारी खेली। पोलार्ड जिन्होंने अकेले दम पर मुंबई को मैच जिताया, उनके कैच भी पंजाब ने टपकाए। हालांकि, पोलार्ड के कैच आसान नहीं थे, लेकिन मुश्किल मैच जीतना हो तो ऐसे कैच छोड़ना टीम को भारी पड़ जाता है।

Posted By: Rajat Singh