नई दिल्ली, जेएनएन। एक और मैच, एक और हार, एक और निराशा। आइपीएल का 12वां सत्र अपने आधे मुकाम तक भी नहीं पहुंचा है और विराट कोहली की कप्तानी वाली रॉयल चैलेंजर्स बेंगलूर (आरसीबी) लगभग आइपीएल से बाहर हो गई है। दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ आरसीबी अपने घरेलू मैदान पर रविवार को चार विकेट से हार गई। यह आरसीबी की इस सत्र में लगातार छठी हार है। अब सवाल उठता है कि विराट विश्व कप के मद्देनजर बाकी मैच खेलकर अपनी फॉर्म वापसी पाना चाहेंगे या फिर कुछ मैच खेलने के बाद आराम को तरजीह देना पसंद करेंगे। आरसीबी ने यहां पहले बल्लेबाजी करते हुए 20 ओवर में आठ विकेट पर 149 रन बनाए थे, लेकिन दिल्ली ने श्रेयस अय्यर की 50 गेंद में 67 रनों की पारी की बदौलत 18.5 ओवर में छह विकेट पर 152 रन बनाकर लक्ष्य हासिल कर लिया। आरसीबी की टीम लगातार छह हार के साथ अंक तालिका में सबसे निचले पायदान पर है, जबकि दिल्ली की टीम छह मैच में तीन मैच जीतकर पांचवें पायदान पर आ गई है।

150 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी दिल्ली कैपिटल्स के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन (00) पहली ही गेंद पर आउट हो गए। उनकी फॉर्म अब दिल्ली के लिए ही नहीं, बल्कि विश्व कप को देखते हुए भारतीय टीम के लिए भी चिंता का विषय बनती जा रही है। पृथ्वी शॉ (28) ने कप्तान श्रेयस का अच्छा साथ निभाया। पृथ्वी को हालांकि पवन नेगी ने अक्शदीप नाथ के हाथों कैच कराकर पवेलियन भेजा। पृथ्वी आउट हुए तो उसके बाद कोलिन इंग्राम (22) के साथ मिलकर श्रेयस ने दिल्ली की पारी को आगे बढ़ाया। इंग्राम भी टीम के 108 रन के योग पर श्रेयस का साथ छोड़ गए। इस बीच श्रेयस ने इस आइपीएल सत्र का अपना पहला अर्धशतक लगाया। हालांकि इसके बाद दिल्ली के बल्लेबाजों का गैर जिम्मेदाराना रवैया इस बार भी देखने को मिला। श्रेयस 17वें ओवर में नवदीप सैनी का शिकार बने। इसी ओवर की आखिरी गेंद पर क्रिस मौरिस (00) भी आउट हो गए। रिषभ पंत (18) को महेंद्र सिंह धौनी के उत्तराधिकारी के तौर पर तैयार किया जा रहा है, लेकिन उनके अंदर एक फिनिशर की क्षमता कहीं नहीं दिखती। इस बार भी वह एक गैरजिम्मेदाराना शॉट खेलकर अपना विकेट फेंक कर चले गए। यह लगातार तीसरा मौका है जब पंत ने मैच को खत्म करने की जिम्मेदारी नहीं उठाई। केकेआर के खिलाफ मैच टाई हो गया था। पंजाब के खिलाफ पिछला मैच गंवा दिया था, लेकिन अगर इस बार रन थोड़े ज्यादा होते तो मैच का नतीजा कुछ और ही हो सकता था। हालांकि अंत में पुछल्ले बल्लेबाजों ने किसी तरह दिल्ली को लक्ष्य तक पहुंचाया।

इससे पहले टॉस हारकर बल्लेबाजी करने उतरी आरसीबी ने 16 के स्कोर पर पार्थिव पटेल (09) और 40 के स्कोर पर एबी डिविलियर्स (17) का विकेट गंवा दिया। इसके बाद मेजबान टीम नियमित अंतराल पर विकेट गंवाती चली गई जिसके कारण वह बड़े स्कोर की ओर नहीं बढ़ पाई। आरसीबी की ओर से कप्तान कोहली ने 33 गेंदों पर एक चौके और दो छक्के की मदद से 41 और मोइन अली ने 18 गेंदों पर एक चौके और तीन छक्के की मदद से 32 रन का योगदान दिया। दोनों बल्लेबाजों ने चौथे विकेट के लिए सबसे ज्यादा 37 रन की साझेदारी की। आरसीबी के बल्लेबाज स्ट्राइक बदलने में भी जूझ रहे थे। आलम यह था कि ओपनिंग पर आने वाले कोहली जब 18वें ओवर की पहली गेंद पर आउट हुए तो उन्होंने सिर्फ 33 गेंदों का सामना किया था। इसमें कोई शक नहीं कि कोहली को कुछ और गेंदें मिली होतीं तो आरसीबी का स्कोर कुछ और बेहतर होता। आरसीबी के लिए इसके अलावा अक्शदीप नाथ ने 19, मार्कस स्टोइनिस ने 15 और टिम साउथी ने नाबाद नौ रन बनाए। आरसीबी ने अंतिम चार ओवर में 35 रन बनाए और चार विकेट भी गंवाए।

दिल्ली के लिए रबादा ने सबसे अधिक चार विकेट चटकाए। इन चार विकेटों में कोहली और डिविलियर्स के विकेट भी शामिल हैं। उनका टी-20 में यह सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। रबादा को उनके इस प्रदर्शन के लिए मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार दिया गया।

सत्र की शुरुआत में सबसे ज्यादा लगातार हार

टीम, सत्र, हार

दिल्ली डेयरडेविल्स, 2013, 6

आरसीबी, 2019, 6

डेक्कन चार्जर्स, 2012, 5

मुंबई इंडियंस, 2014, 5

Posted By: Sanjay Savern