नई दिल्ली, जेएनएन। आइपीएल (IPL) के 12वें सीजन में चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) को बुधवार को अपनी पहली हार का सामना करना पड़ा। वानखेड़े स्टेडियम में खेले गए मैच में मुंबई इंडियंस (MI) ने चेन्नई को 37 रनों से हरा दिया। इस मैच में अभी तक अपराजित रही चेन्नई की दो कमियां उभर के सामने आई हैं। फील्डिंग को लेकर कप्तान धौनी पहले भी चिंता जता चुके है, लेकिन इस मैच में चेन्नई की बल्लेबाजी और गेंदबाजी भी एक्सपोज हुई है।

आखिरी ओवर में खराब गेंदबाजीः चेन्नई के साथ पिछले सीजन में अफ्रीकन गेंदबाज लुंगी एंगिडी थे, लेकिन इस बार ऐसा कोई भी गेंदबाज अभी तक नजर नहीं आया है। टीम में फास्ट बॉलिंग का जिम्मा दीपक चाहर, शार्दुल ठाकुर, मोहित शर्मा और ब्रावो के ऊपर है। धौनी इनमें से दीपक का इस्तेमाल मैच के शुरुआत में ही कर लेते हैं। आखिरी के ओवरों में बॉलिंग का जिम्मा ठाकुर और ब्रावो के कंधो पर होता है। पिछले दो मैचों में ब्रावो ने अंतिम ओवरों में अच्छे स्पेल डाले थे, लेकिन वह मुंबई के खिलाफ काफी महंगे साबित हुए। मैच के आखिरी ओवर में उन्होंने 29 रन दे डाले। इस मैच में ब्रावो ने 12.25 की इकोनॉमी से 49 रन खर्च किए। वहीं, बाकि दोनों पेसरों की भी औसत लगभग नौ के करीब रही। अब तक खेले गए पूरे चार मैचों की बात करें, तो फास्ट बॉलरों में चाहर को छोड़ सबकी इकोनॉमी नौ से ऊपर की है। शुरुआत के मैचों में स्पिन मिडिल ऑर्डर में विकेट लेकर विरोधी टीम की कमर तोड़ देती थी, लेकिन मुंबई के बल्लेबाजों ने संभल के बल्लेबाजी की और आखिरी में चेन्‍नई की इस कमजोरी का फायदा उठाया।

बल्लेबाजी में धौनी पर निर्भरताः पहले मैच को छोड़ दे, तो बाकि दोनों मैचों में धौनी ने आखिर तक बल्लेबाजी की और नाबाद लौटे। पहले मैच में चेन्नई को ज्यादा बड़ा टोटल हासिल नहीं करना था। दूसरे और तीसरे मैच की अगर बात करें, तो मैच को धौनी ने ही समाप्त किया। मुंबई के खिलाफ जब धौनी नहीं चले, तो अखिरी के ओवर में चेन्नई की बल्लेबाजी दबाव में बिखर गई। अभी तक चेन्नई की ओपनिंग भी कुछ खास नहीं रही है। अंबाती रायडू और शेन वॉटसन अच्छी शुरुआत देने में असफल रहे हैं, जिसके चलते मिडिल ऑर्डर पर ज्यादा दबाव है। मध्यक्रम में जाधव ही लगातार परफॉर्मेंस देने में सफल रहे हैं। रैना ने भी कुछ खास बल्लेबाजी नहीं की है।

इन दोनों कमियों के अलावा चेन्नई ने मुंबई के खिलाफ काफी कैच टपकाए। फील्डिंग कितनी भी खराब हो, लेकिन आप कैच नहीं छोड़ सकते हैं। चेन्नई की टीम अगर ऐसे ही कैच छोड़ती रही, तो काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है।

 

Posted By: Rajat Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप