ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज लेग स्पिनर और आइपीएल की फ्रेंचाइजी राजस्थान रॉयल्स के ब्रांड एंबेसडर शेन वॉर्न को लगता है कि इस बार उनकी टीम दुनिया की सबसे बड़ी क्रिकेट लीग का खिताब जीत सकती है। 2008 में वॉर्न की कप्तानी में ही राजस्थान रॉयल्स ने पहली और आखिरी बार यह ट्रॉफी अपने नाम की थी। उन्होंने माना कि विश्व कप से पहले बड़े खिलाडि़यों के आइपीएल छोड़कर अपनी टीमों से जुड़ने के कारण सभी फ्रेंचाइजियों पर फर्क पड़ेगा और सबको इससे निपटना होगा। 23 मार्च से शुरू हो रहे आइपीएल के 12वें सत्र में रॉयल्स की तैयारियों और अन्य मुद्दों पर अभिषेक त्रिपाठी ने शेन वार्न से खास बातचीत की। पेश है मुख्य अंश :

-आप आइपीएल में कप्तान, कोच और मेंटर के रूप में सबसे अनुभवी हैं। और अब रॉयल्स के ब्रांड एंबेसडर हैं। आपको क्या लगता है कि इस तरह के टूर्नामेंट में युवा क्रिकेटरों का क्या भविष्य है?

-आइपीएल में सबसे बड़ी बात यह है कि इस लीग ने दुनिया भर के युवा क्रिकेटरों की मदद की है। खासकर भारतीय क्रिकेटरों को मौका दिया है और वे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटरों के साथ खेलते हैं। तेज गेंदबाजों को भी मौके मिले हैं जिन्होंने खुद को साबित करने के लिए कई शॉर्ट पिच गेंदों का इस्तेमाल किया है। मुझे लगता है कि आइपीएल युवाओं की क्षमता को बढ़ाने का काम करता है और वे तेजी से सीखते हैं क्योंकि जब आपको मौका मिलता है खासतौर से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में तो आपको अपने प्रदर्शन से खुद को साबित करना होता है।

- शुरुआती सत्र की जीत के बाद रॉयल्स की टीम अधिक प्रभावित नहीं कर पाई है, लेकिन क्या आपको लगता है कि आगामी सत्र में टीम 2008 का दोहराव कर सकती है?

-मुझे नहीं पता कि उन्होंने इस दौरान अधिक प्रभावित किया है या नहीं लेकिन रॉयल्स ने मैदान पर बहुत अच्छा किया है। वे पहले सत्र के बाद कई बार प्लेऑफ तक पहुंचे। वे कई बार दुर्भाग्यशाली भी रहे। उन्हें यकीन है कि वे फिर से इस खिताब को जीत जाएंगे और यह इस बार भी हो सकता है। आइपीएल का पहला सत्र हमने जीता था और यह पहला सत्र है जिसमें हम पूरी गुलाबी रंग की ड्रेस पहनने जा रहे हैं। मुझे लगता है कि इस साल रॉयल्स दोबारा खिताब जीतेंगे।

- स्टीव स्मिथ वापस आ गए हैं। उनकी वापसी पर आप क्या कहना चाहेंगे। रॉयल्स के लिए उनका महत्व और यह आइपीएल उनके लिए कितना महत्वपूर्ण होगा?

- विश्व कप को ध्यान में रखते हुए यह उनका पहला प्रतिस्पर्धी क्रिकेट टूर्नामेंट है इसलिए वह टीम में वापस आने और मध्य क्रम में खेलने को लेकर उत्साहित होंगे। वह अपने बल्ले से जवाब देते हैं। मुझे लगता है कि उनके लिए यह सत्र शानदार होगा और टीम के लिए उनका अनुभव भी महत्वपूर्ण रहेगा। रॉयल्स हम सभी के लिए एक परिवार है और मुझे यकीन है कि स्टीव यहां घर जैसा महसूस करेंगे। उनके आने से हमारी टीम को काफी फायदा होगा।

- आप बल्लेबाज संजू सैमसन की हमेशा से बहुत सराहना करते रहे हैं, आपको क्या लगता है कि उनकी रॉयल्स में क्या भूमिका रहेगी?

- वह इस सत्र में नंबर तीन पर बल्लेबाजी करने जा रहा है जो बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान है। सैमसन इस काम के लिए फिट हैं। आप जब इस नंबर पर बल्लेबाजी करने आते हो तब या तो पहला विकेट जल्दी गिर गया होता है, या फिर वह आपको सलामी बल्लेबाजों द्वारा दी गई तेजी को बरकरार रखना होता है। आप पारी को धीमा नहीं कर सकते और आपको नीचे के बल्लेबाजों को मजबूत आधार प्रदान करना होता है। मैं यह आधिकारिक तौर पर कह रहा हूं और मुझे उम्मीद है कि साल के अंत तक सैमसन भारत के सभी प्रारूपों में खेल रहा होगा। मुझे लगता है कि वह अच्छा खिलाड़ी है।

- आगामी विश्व कप को ध्यान में रखते हुए एक ऐसा समय आएगा जब अंतरराष्ट्रीय खिलाडि़यों को वापस स्वदेश जाना होगा। रॉयल्स इसके लिए खुद को कैसे तैयार कर रहा है?

- सभी फ्रेंचाइजी एक ही तरह की परिस्थितियों से गुजर रही हैं। सभी एक ही समय के आसपास अपने अच्छे अंतरराष्ट्रीय खिलाडि़यों को खो देंगी लेकिन मुझे लगता है कि वे प्ले ऑफ और फाइनल जैसे महत्वपूर्ण मैचों में साथ रहेंगे। मुझे लगता है कि रॉयल्स ने इसके लिए अच्छी रणनीति बनाई है। उन स्थानों को भरने के लिए खिलाडि़यों के बैक अप की योजना है। मेरा मतलब है कि जोस बटलर, स्मिथ, बेन स्टोक्स, जोफ्रा आर्चर की जगह भरना बहुत कठिन है, लेकिन हमें कुछ प्रतिभाशाली विदेशी और भारतीय खिलाड़ी मिले हैं जो उन स्थानों को भर सकते हैं और उम्मीद है कि वे अच्छा प्रदर्शन करेंगे।

Posted By: Sanjay Savern