नई दिल्ली, जेएनएन। भारतीय टीम ने इंग्लैंड के खिलाफ अपने क्रिकेट सीरीज का आगाज टी20 सीरीज में जीत हासिल करके की। इसके बाद दोनों देशों के बीच वनडे सीरीज खेली जा रही है लेकिन भारतीय टीम में चौथे नंबर पर बल्लेबाजी को लेकर अब भी निश्चितता नहीं बनी है। क्रिकेट में जब नंबर चार पर बल्लेबाजी करने वाले बल्लेबाजों की बात होती है तो इसमें महेला जयवर्धने या एबी डीविलियर्स का नाम सबसे पहले आता है जिन्हें इस क्रम पर बेजोड़ बल्लेबाज माना जाता था। नंबर चार की बल्लेबाजी टॉप ऑर्डर और निचले क्रम के बल्लेबाजों के बीच पुल का काम करता है। किसी भी टीम के लिए इस नंबर की बल्लेबाजी उनके बैटिंग लाइनअप को बैलेंस करने का काम करती है। 

भारतीय टीम की बात करें तो युवराज सिंह के अलावा इस क्रम पर आठ बल्लेबाजों को आजमाया जा चुका है लेकिन इस नंबर पर युवी जितना सफल कोई नहीं रहा। इस क्रम पर बल्लेबाजी करने वाले खिलाड़ी को परिस्थिति के हिसाब से खुद को ढालना होता है। इस क्रम पर ऐसे बल्लेबाज की जरूरत होती है जो ना तो बहुत तेज खेलता हो और ना ही स्लो बल्लेबाजी करता हो। शायद यही वजह रही कि युवराज इस क्रम पर भारतीय टीम के लिए काफी समय तक खेलते रहे और सफल हुए। अब टीम के नए कप्तान विराट के लिए इस क्रम के लिए किसी स्थायी बल्लेबाज को ढूंढ़ना एक बड़ी चुनौती बनी हूुई है।  

विश्व कप 2011 में भारतीय टीम के लिए विराट ने इस भूमिका को बखूबी निभाया था। गंभीर टीम के लिए तीसरे ओपनर के तौर पर थे इसलिए वो तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करते थे। इसके बाद विश्व कप 2015 में अजिंक्य रहाणे ने इस क्रम पर बल्लेबाजी की। वर्ष 2015 के विश्व कप के बाद  इस नंबर पर कई भारतीय बल्लेबाजों को आजमाया गया लेकिन कोई भी इस क्रम पर सफल नहीं हुआ। एक बार फिर से चैंपियंस ट्रॉफी 2017 के लिए युवी पर भरोसा जताते हुए उन्हें इस क्रम पर बल्लेबाजी की जिम्मेदारी दी गई। 

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ भारत में खेले गए सीरीज में नंबर चार पर हार्दिक पांड्या को आजमाया गया जिनकी जिम्मेदारी स्पिन अटैक को आक्रामक अंदाज में खेलना था लेकिन वो इस नंबर पर निरंतर नहीं रह सके। मनीष पांड, श्रेयस अय्यर को भी कुछ मैचों में मौका मिला लेकिन कुछ खास हासिल नहीं हुआ। इसके बाद टीम मैनेजमेंट ने केदार जाधव को चौथे नंबर पर आजमाया लेकिन वो चोटिल हो टीम से बाहर हो गए। 

आइपीएल 2018 में अपने अच्छे प्रदर्शन के जरिए भारतीय टीम में जगह बनाने वाले दिनेश कार्तिक को इस नंबर पर बल्लेबाजी की जिम्मेदारी दी गई लेकिन फिर सवाल ये उठा कि लोकेश राहुल अब किस नंबर पर बल्लेबाजी करेंगे। राहुल ने भी इस आइपीएल में बेहतरीन प्रदर्शन किया था और टी20 प्रारूप में ओपनिंग के लिए पूरी तरह से फिट थे। इंग्लैंड के खिलाफ विराट ने उन्हें तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी के लिए भेजा और उन्होंने इस सीरीज में अपने टी20 करियर का दूसरा शतक भी लगाया। 

वनडे में लग रहा था कि लोकेश ओपनिंग करेंगे लेकिन उन्हें चौथे नंबर पर भेजा गया और वो पूरी तरह से फ्लॉप रहे। इसमें कोई शक नहीं कि भारतीय टीम स्थिति के हिसाब से अपने बल्लेबाजों का क्रम तय करती है लेकिन टीम को एक अदद बल्लेबाज की जरूरत है जो नंबर चार पर बल्लेबाजी कर सके। सबसे बड़ी बात ये कि विश्व कप तक भारतीय टीम को एक बल्लेबाज तो इस क्रम के लिए तैयार करना ही पड़ेगा और अगर ऐसा नहीं हुआ तो टीम को इसका नुकसान उठाना पड़ सकता है। 

Posted By: Sanjay Savern