नई दिल्ली, जेएनएन। भारत और ऑस्ट्रेलिया की टीम को भले ही रविवार से एक-दूसरे से भिड़ना हो, लेकिन दोनों देशों के पूर्व खिलाड़ियों के बीच जीत को लेकर अभी से अनुमान लगाने का सिलसिला शुरू हो गया है। यहां एक कार्यक्रम में आए पूर्व भारतीय दिग्गज वीवीएस लक्ष्मण का मानना है कि वनडे सीरीज प्रतिस्पर्धी और रोमांचक होगी, लेकिन मेहमान टीम के कमजोर गेंदबाजी आक्रमण के कारण विराट कोहली की टीम इंडिया 4-1 से इसे अपने नाम कर सकती है। वहीं, पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान माइकल क्लार्क ने कहा कि स्टीव स्मिथ की कप्तानी वाली टीम 3-2 से सीरीज जीत सकती है।

कलाई के गेंदबाजों को मिला मौका 

अश्विन और रवींद्र जडेजा को मौका नहीं दिए जाने पर लक्ष्मण ने कहा कि इन दोनों स्पिनरों को बाहर नहीं किया गया है, बल्कि आराम दिया गया है। चयनकर्ताओं ने 2019 विश्व कप को ध्यान में रखते हुए कुछ प्रयोग किए हैं। चैंपियंस ट्रॉफी में स्पिनरों को मदद नहीं मिल रही थी इसलिए श्रीलंका में कलाई के दो गेंदबाजों (बायें हाथ के चाइनामैन) कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल (लेग स्पिनर) को आजमाया, जिन्होंने काफी अच्छा प्रदर्शन किया। श्रीलंकाई टीम कुछ कमजोर थी इसलिए अब ऑस्ट्रेलिया की मजबूत टीम के खिलाफ भी उन्हें मौका दिया गया है। मुझे लगता है कि विश्व कप से पहले चयनकर्ताओं की नजर दो बिंदुओं पर होंगी। पहला कलाई के अच्छे स्पिनरों की पहचान करना और दूसरा फिनिशर की भूमिका के लिए खिलाड़ी तलाशना। फिनिशर की भूमिका में सीमित मौकों पर हार्दिक पांड्या ने बेहतरीन प्रदर्शन किया है। मुझे लगता है कि 2019 तक खिलाड़ियों को पता होगा कि उन्हें टीम में क्या भूमिका निभानी है।

अजिंक्य रहाणो को सीमित ओवरों की टीम में अधिक मौके नहीं मिलने पर लक्ष्मण ने कहा कि रहाणो बेहतरीन क्रिकेटर है और इस समूह में वह नेतृत्वकर्ता की तरह है। युवराज सिंह के बारे में उन्होंने कहा कि इस बल्लेबाज को आराम दिया गया है। उसकी गैरमौजूदगी में केदार जाधव, मनीष पांडे और लोकेश राहुल जैसे खिलाड़ियों को मौके मिले।

वनडे में स्मिथ से बेहतर हैं कोहली 

क्लार्क ने कहा कि हमें इस सीरीज में तेज गेंदबाजों मिशेल स्टार्क और जोश हेजलवुड (दोनों चोट से उबर रहे हैं) की कमी खलेगी, लेकिन इस ऑस्ट्रेलियाई टीम में काफी क्षमता है। उनका मानना है कि कोहली की अगुआई में भारत के प्रदर्शन में सुधार का सबसे बड़ा कारण यह है कि मौजूदा भारतीय कप्तान हार से नहीं डरता और जीत हासिल करने के लिए आक्रामकता के साथ टीम की अगुआई करता है। उनका कहना है कि मैं हमेशा से सौरव गांगुली की कप्तानी का कायल रहा हूं। वह तारीफ के हकदार हैं। उन्होंने टीम में एक माहौल तैयार किया जिसे धौनी और कोहली ने अपने-अपने तरीकों से आगे बढ़ाया।

कोहली बेहद आक्रामकता के साथ टीम की अगुआई करते हैं और जीत की कोशिश करते हुए हारने से भी नहीं डरते। कोहली और स्मिथ की बल्लेबाजी व कप्तानी की तुलना पर क्लार्क ने कहा कि भारतीय कप्तान बेहतर वनडे बल्लेबाज हैं। लेकिन दोनों के बीच मामूली अंतर है। दोनों काफी अच्छे खिलाड़ी हैं, लेकिन कप्तान के रूप में यह महत्वपूर्ण होता है कि टीम आपके नेतृत्व में कैसा प्रदर्शन कर रही है। मैं स्मिथ को बेहतर टेस्ट बल्लेबाज मानता हूं।

विराट बेहतर कप्तान

लक्ष्मण की नजर में भी कोहली, स्मिथ की तुलना में बेहतर कप्तान हैं। उन्होंने कहा कि दोनों युवा कप्तान हैं, लेकिन हमने देखा है कि टेस्ट में स्मिथ पूर्वानुमान लगाने में उतने प्रभावी नहीं हैं। टेस्ट सीरीज के दौरान गेंदबाजी में बदलाव करते हुए उनके फैसले अच्छे नहीं थे।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Mohit Tanwar