नई दिल्ली, जेएनएन। टीम इंडिया के पूर्व ओपनर वीरेंद्र सहवाग जिस तरह से पहले मैदान पर गेंदबाज़ों की धुनाई करते थे, ठीक उसी तरह अब वो ट्विटर पर अपनी बेबाक राय रखते हैं। क्रिकेट से संन्यास के बाद से ही  सहवाग ट्विटर पर दुनिया के तमाम गंभीर मुद्दों पर बेबाकी से अपनी राय रखते हैं। इस बार सहवाग ने छोटे बच्चों की किताबों के छपे कॉन्टेंट को लेकर एक ट्वीट किया है। 

सहवाग ने उठाया ये मुद्दा 

सहवाग ने अब प्राइमरी स्कूल की किताबों में छपे कॉन्टेंट पर एक ट्वीट किया है। इस ट्वीट में सहवाग ने इंग्लिश की किताब में छपे कॉन्टेंट पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने अपने ट्वीट में अंग्रेजी की किताब में बड़े परिवार पर लिखी गई बातों पर गुस्सा जाहिर किया है। किताब में छात्रों को यह पढ़ाया जा रहा है कि एक बड़ा परिवार कभी सुखी जीवन नहीं बिताता। इस किताब में बड़े परिवार की परिभाषा कुछ इस तरह से बताई गई है - 'बड़े परिवार में माता-पिता के अलावा दादा-दादी के अलावा कई बच्चे होते हैं। एक बड़ा परिवार कभी भी सुखी जीवन नहीं जीता।'

कॉन्टेंट आथॉरिटी पर उतारा गु्स्सा

सहवाग ने ट्वीट में इन बातों को हाइलाइट करते हुए इन पर गुस्सा जाहिर किया है। उन्होंने लिखा, 'स्कूल की किताब में इस तरह की और भी बहुत सारी बकवास शामिल है। मतलब साफ है कि किताब में कॉन्टेंट के लिए जिम्मेदार अथॉरिटी कॉन्टेंट का निरीक्षण ठीक से नहीं कर रही है।' 

यानी इन कॉन्टेंट के लिए जिम्मेदार अथॉरिटी अपना होमवर्क ठीक से नहीं कर पा रही। सहवाग के इस ट्वीट पर हजारों लोगों ने अपनी सहमति जताई है और ऐसे कॉन्टेंट के लिए संबंधित विभाग के प्रति नाराजगी जाहिर की है।

देखिए सहवाग के ट्वीट पर लोगों ने किस तरह से अपनी सहमति ज़ाहिर की है-

 क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Pradeep Sehgal