नई दिल्ली, जेएनएन। ICC Cricket World Cup 2019: वर्ल्ड कप 2019 का 34वां मुकाबला मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड मैदान पर भारत और वेस्टइंडीज के बीच खेला गया। इस मुकाबले को टीम इंडिया ने 125 रन के बड़े अंतर से जीता। भले ही टीम इंडिया को बड़ी जीत मिली हो लेकिन टीम का स्कोर उतना बड़ा था क्योंकि भारत ने 50 ओवर बल्लेबाजी करते हुए 268 रन बनाए थे। 

इस मैच में विराट कोहली एंड कंपनी को जीत मिली हो लेकिन एक बार फिर से टीम इंडिया की कमजोरी उजागर हुई है और वो कमजोरी है मध्य क्रम। जी हां, टॉप ऑर्डर के बल्लेबाजों के आउट होने के बाद एक बार फिर से टीम इंडिया के मध्य क्रम की पोल खुल गई। धौनी ने आखिरी में कुछ अच्छे शॉट खेलकर टीम की सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाया हो लेकिन इस बल्लेबाजी क्रम में उतनी गहराई नज़र नहीं आई।

वर्ल्ड कप का अपना तीसरा मैच खेलने वाले विजय शंकर एक बार से बड़ी पारी खेलने में नाकाम रहे। इस तरह एक बार फिर नंबर चार के लिए डिबेट शुरू हो गई। विजय शंकर के अलावा केदार जाधव भी कैच आउट हो गए। हालांकि, जाधव ने अफगानिस्तान के खिलाफ सधी हुई पारी खेलकर अर्धशतक जड़ा था। लेकिन उस मैच में विजय शंकर, एमएस धौनी और हार्दिक पांड्या फेल रहे थे। 

भारतीय टीम के साथ इस वर्ल्ड कप में अच्छी बात ये रही है कि टीम ने सभी मैच जीते हैं। एक दो बल्लेबाजी अच्छी रही तो ज्यादातर मैचों में गेंदबाजों ने सभी की कमजोरियों पर पर्दा डाल दिया। इस मुकाबले में भी जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद शमी ने मिलकर 6 विकेट निकाले। इससे पहले अफागनिस्तान के खिलाफ भी दोनों को 6 विकेट मिले थे।

ऐसे में विराट कोहली और टीम मैनजमेंट को कुछ ना कुछ बदलाव करना होगा क्योंकि धौनी आखिरी में रन बना सकते हैं। इस तरह धौनी को नंबर चार पर भेजा जा सकता है। वहीं, विजय शंकर को अगर बाहर बैठाना हो तो रिषभ पंत को प्लेइंग इलेवन में शामिल किया जा सकता है। इसके अलावा अगर मध्य क्रम जिम्मेदारी के साथ खेलता है तब भी टीम को बड़े स्कोर बनाने में आसानी होगी।  

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Vikash Gaur