(वसीम अकरम का कॉलम)

सीरीज का फैसला हो जाने के बाद होने वाले बेजान और औपचारिकता मात्र मैचों से खुद को जोड़ पाना मुश्किल होता है। खिलाड़ी भी ऐसे मैचों के लिए खुद को प्रेरित कर पाने में कभी-कभी नाकाम रहते हैं। तो फिर ऐसे मैच कराने से क्या फायदा।

आखिर इन मैचों के साथ क्या किया जाए। यह बहुत ही मुश्किल सवाल है। हम मैच को सिर्फ इसलिए ही नहीं रद नहीं कर सकते क्योंकि सीरीज का फैसला हो चुका है। प्रायोजकों का इसमें पैसा लगा होता है। दर्शकों ने टिकट के लिए भुगतान किया होता है। टीवी कंपनियों का पैसा लगा होता है। मेरा सुझाव है कि मैच में रोमांच बनाए रखने के लिए हम यहां अंक प्रणाली की व्यवस्था लागू कर सकते हैं। जो कि विश्व कप या चैंपियंस ट्रॉफी जैसे बड़े टूर्नामेंटों में क्वालीफाई करने के लिए टीमों को हासिल करना जरूरी हो।

फिलहाल मुझे ऐसे बेजान मैचों में थोड़ी सी जान डालने के लिए यही एक समाधान नजर आ रहा है। आइपीएल की वजह से मैं रविवार को होने वाले टी20 मैच में भारत को जीत का दावेदार मान रहा हूं। उनका क्षेत्ररक्षण शानदार है, वे रन चुराने में माहिर हैं और सबसे बड़ी बात इस प्रारूप में उनका अनुभव भी ज्यादा है। इन सब बातों के बावजूद टी20 में भविष्यवाणी करना खतरे से खाली नहीं। कुल मिलाकर यह मुकाबला मजेदार और मनोरंजक होगा।

(टीसीएम)

अन्य क्रिकेट विशेषज्ञों की राय जानने के लिए यहां क्लिक करेें

खेल जगत से जुड़ी अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस