अभिषेक त्रिपाठी, कोलकाता। तुम्हारे शहर का मौसम बड़ा सुहाना लगे, मैं एक शाम चुरा लूं अगर बुरा न लगे.. कैसर-उल जाफरी का यह शेर कोलकातावासियों पर मुफीद बैठता है, क्योंकि रबींद्रनाथ टैगोर का शहर इस समय गुलाबी खुमार में है। 1943 में बना हावड़ा ब्रिज 2019 में गुलाबी होकर भारत और बांग्लादेश के बीच शुक्रवार को ईडन गार्डेस में होने वाले पहले डे-नाइट टेस्ट मैच का गवाह बनने को तैयार है। यह ब्रिज जब बना था तो बांग्लादेश, भारत का ही हिस्सा था।

जब यह दोनों टीमें पहली बार गुलाबी गेंद से डे-नाइट टेस्ट मैच खेलेंगी तो रबींद्रनाथ टैगोर द्वारा लिखे राष्ट्रगान जन गण मन.. और अमार सोनार बांग्ला.. गाएंगी। कुल मिलाकर अगले तीन-चार दिन (टेस्ट मैच तीन-चार दिन ही चलने की संभावना) भारत और बांग्लादेश ही नहीं, वैश्विक क्रिकेट के लिए भी बेहद महत्वपूर्ण होने वाले हैं, क्योंकि ये टेस्ट मैच की दशा और दिशा तय करेंगे।

गुलाबी गेंद बनाम भारतीय टीम : भारतीय कप्तान विराट कोहली ने मैच से पहले प्रेस कांफ्रेंस में भले ही गुलाबी गेंद से होने वाले डे-नाइट टेस्ट के भविष्य पर ज्यादा खुशी नहीं जताई हो, लेकिन सौरव गांगुली के नेतृत्व वाला बीसीसीआइ और क्रिकेट की शीर्ष संस्था अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आइसीसी) ज्यादा से ज्यादा डे-नाइट टेस्ट मैच कराकर इस खेल के सबसे पुराने प्रारूप को जिंदा रखना चाहते हैं। अगर इस मैच की बात करें तो बांग्लादेश टीम काफी कमजोर है और यह मुकाबला भारत बनाम बांग्लादेश की जगह टीम इंडिया बनाम गुलाबी गेंद नजर आ रहा है।

भारत का भी टेस्ट : 2016 से अभी तक 11 डे-नाइट टेस्ट हुए हैं और उसमें नौ मेजबान टीम ने जीते हैं। दो मैचों की सीरीज का पहला मैच इंदौर में पारी और 130 रनों से जीत चुकी भारतीय टीम का पलड़ा यहां भी भारी है और ऐसा लग रहा है कि वह आसानी से डे-नाइट टेस्ट के मेजबान की झोली में जाने के रिकॉर्ड को ही बरकरार रखेगी। हालांकि, यह भारतीय टीम खासकर उसके बल्लेबाजों के लिए आसान नहीं होने वाला है, क्योंकि सूर्यास्त के समय भारतीय टीम के बल्लेबाजों को गुलाबी गेंद से खेलने में दिक्कत आ रही है और यह उनकी सबसे बड़ी समस्या है।

बुधवार को जब अभ्यास सत्र में विराट सूर्यास्त के समय दूधिया रोशनी में बल्लेबाजी कर रहे थे तो उन्हें गुलाबी गेंद को समझने में काफी दिक्कत हुई। हालांकि, गुरुवार को सुबह अभ्यास करते समय हालांकि विराट पहले से बेहतर नजर आए। दूसरे दिन शमी अभ्यास के लिए नहीं आए थे और विराट ने इशांत शर्मा और थ्रोडाउन स्पेशलिस्ट के खिलाफ काफी देर तक अभ्यास किया। दिन के समय बाकी भारतीय बल्लेबाज भी गुलाबी गेंद को आसानी से समझ ले रहे थे।

पहले दिन लगेगा मेला : भारतीय टीम घरेलू टेस्ट सीरीज में लगातार 12वीं जीत की तैयारी में है। हालांकि, इस बीच बंगाल क्रिकेट संघ (सीएबी) ने इस मैच को दर्शकों के लिए एक मेले की तरह बनाने के पूरे प्रबंध किए हैं। गुलाबी गेंद, शुभंकर, मैच में गेंद देने के लिए सेना के पैराट्रूपर, जानी-मानी खेल और राजनीतिक हस्तियों की उपस्थिति से इस मेले को सजाया जाएगा। बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी घंटा बजाकर मैच चालू करने की घोषणा करेंगी।

कुलदीप या अश्विन : भारतीय तेज गेंदबाजों की तिकड़ी मुहम्मद शमी, इशांत शर्मा और उमेश यादव ने पिछले मैच में भी शानदार प्रदर्शन किया था और उनमें कोई बदलाव नहीं होगा। हालांकि, शमी ने गुरुवार को अभ्यास नहीं किया। इसके अलावा ओपनर रोहित शर्मा और मयंक अग्रवाल भी शानदार फॉर्म में हैं। तेज गेंदबाजों ने इंदौर में 14 विकेट लिए और उनके लिए ईडन में उस प्रदर्शन को दोहराना मुश्किल नहीं होगा। मयंक, रोहित और कुलदीप को गुलाबी गेंद से दलीप ट्रॉफी मुकाबला खेलने का अनुभव भी है।

गुरुवार को कुलदीप ने गेंदबाजी के साथ बल्लेबाजी का भी अभ्यास किया, जबकि अश्विन ने कुछ खास नहीं किया। गुलाबी गेंद से कुलदीप के खिलाफ खेलना बांग्लादेशी बल्लेबाजों के लिए मुश्किल होगा। ऐसे में कुलदीप को इस टेस्ट मैच में खिलाने का चांस है। गुलाबी गेंद से कलाई के स्पिनर ज्यादा घातक साबित होते रहे हैं। वहीं, रवींद्र जडेजा ने अभी तक गेंद के साथ बल्ले से भी शानदार प्रदर्शन किया है। ऐसे में टीम प्रबंधन स्पिन विभाग में जडेजा और कुलदीप के संयोजन के साथ उतर सकता है।

बांग्लादेश टीम कमजोर : बांग्लादेश की टीम बेहद कमजोर है और ऐसे में वह अपने पहले डे-नाइट टेस्ट में कितने समय तक खुद को बचाकर रख पाएगी यह देखना महत्वपूर्ण होगा। इंदौर में बांग्लादेश की बल्लेबाजी लचर साबित हुई थी। सिर्फ मुशफिकुर रहीम ही 50 से अधिक रन बना सके थे। शाकिब अल हसन के निलंबन के बाद कप्तानी संभाल रहे मोमिनुल हक दबाव का सामना नहीं कर पा रहे हैं। बांग्लादेश टीम तैजुल इस्लाम और इबादत हुसैन की जगह मुस्तफिजुर रहमान और अल अमीन हुसैन को खिला सकती है।

टीमें :

भारत-विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा, मयंक अग्रवाल, चेतेश्वर पुजारा, अजिंक्य रहाणे, रिद्धिमान साहा, रविचंद्रन अश्विन, रवींद्र जडेजा, रिषभ पंत, मुहम्मद शमी, इशांत शर्मा, उमेश यादव, हनुमा विहारी, कुलदीप यादव और शुभमन गिल।

बांग्लादेश- मोमिनुल हक (कप्तान), लिटन दास, मेंहदी हसन, नईम हसन, अल अमीन हुसैन, इबादत हुसैन, मुसद्दक हुसैन, शादमान इस्लाम, तैजुल इस्लाम, अबू जाएद, इमरूल काएस, महमूदुल्लाह, मुहम्मद मिथुन, मुश्फिकुर रहीम, मुस्तफिजुर रहमान।

 

Aus-vs-Ind

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस