दुबई। भारत और पाकिस्तान क्रिकेट के प्रशंसकों के लिए अच्छी खबर है। दोनों देशों के बीच बहुप्रतीक्षित द्विपक्षीय सीरीज श्रीलंका में खेली जा सकती है, जिसकी आधिकारिक घोषणा शुक्रवार को होने की उम्मीद है।

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआइ) ने साफ कर दिया था वह संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में नहीं खेलेगा, जबकि पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) ने भारत में खेलने से इन्कार कर दिया। ऐसे में दोनों देशों के बीच श्रीलंका ही विकल्प बचा था जो तटस्थ स्थल होगा।

बीसीसीआइ के शीर्ष सूत्रों के अनुसार इस सीरीज के लिए केवल एक महीने की विंडो खाली है और ऐसे में प्रस्तावित दो टेस्ट, पांच वनडे और दो टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैचों के बजाय केवल तीन वनडे और दो टी-20 होने की संभावना है।

बीसीसीआइ अध्यक्ष और आइसीसी चेयरमैन शशांक मनोहर और पीसीबी अध्यक्ष शहरयार खान व सीनियर अधिकारी नजम सेठी के बीच यहां इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) प्रमुख और पाकिस्तान टास्क फोर्स के चेयरमैन जाइल्स क्लार्क की उपस्थिति में बैठक के बाद प्रक्रिया तेजी से आगे बढ़ रही है। सेठी और खान दोनों ने कहा था कि मनोहर के साथ बैठक उपयोगी रही। उन्होंने खुलकर कुछ नहीं बताया, लेकिन इससे साफ संकेत दे दिया कि इस सीरीज को लेकर बना गतिरोध खत्म हो गया है।

सूत्रों ने कहा, 'पीसीबी को आधिकारिक घोषणा करने से पहले प्रधानमंत्री नवाज शरीफ से अनुमति लेने की जरूरत है। शहरयार को लाहौर जाकर नवाज से अनुमति लेनी पड़ेगी। एक बार उन्हें हरी झंडी मिलने के बाद वह फिर से दुबई जाकर क्लार्क को फैसले से अवगत कराएंगे। क्लार्क संभवत: शुक्रवार को आधिकारिक घोषणा करेंगे।

पता चला है कि पीसीबी ने श्रीलंका क्रिकेट (एसएलसी) से संपर्क किया है और लगता है कि वे सीरीज की मेजबानी के इच्छुक हैं। मैच दो स्टेडियमों खेतरामा (आर प्रेमदासा स्टेडियम) और पाल्लेकल (कैंडी) में हो सकते हैं। अभी श्रीलंका में लौटता मानसून हावी है, लेकिन दिसंबर के आखिर में वहां मौसम अच्छा रहने की भविष्यवाणी की गई है।

यह पहला मौका है, जबकि 2009 के लाहौर हमले के बाद पाकिस्तान की घरेलू सीरीजों का आयोजन स्थल बने यूएई में टेस्ट खेलने वाले किसी देश ने खेलने से इन्कार किया है। मनोहर यूएई में अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने के सख्त खिलाफ थे। यहां तक कि पिछले साल लोकसभा चुनावों के कारण जब आइपीएल का पहला चरण यूएई में करवाया गया था तो मनोहर ने उसकी भी आलोचना की थी। यूएई मैच फिक्सरों का गढ़ माना जाता रहा है।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

खेल की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Ind-vs-End

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप