नई दिल्ली, [जागरण संवाददाता]। आइपीएल में स्पॉट फिक्सिंग के आरोपी राजस्थान रॉयल्स के क्रिकेटर श्रीसंत, अंकित चव्हाण सहित 19 आरोपियों को तिहाड़ जेल से जमानत पर मंगलवार रात रिहा कर दिया गया। श्रीसंत को लेने उसका भाई दीपू संत व अन्य रिश्तेदार जेल पहुंचे थे। श्रीसंत को 15 दिन तिहाड़ जेल में काटने पड़े।

सूत्रों के अनुसार, सोमवार को साकेत कोर्ट से जमानत मिलने के बाद श्रीसंत व अंकित चव्हाण काफी खुश थे। तिहाड़ के कानून अधिकारी सुनील गुप्ता ने बताया कि शाम छह बजे कोर्ट का जमानती आदेश जेल प्रशासन को मिला। इसके बाद रिहाई की प्रक्रिया शुरू की गई। इसमें करीब दो घंटे का समय लगा। श्रीसंत व अंकित चव्हाण के परिजन शाम छह बजे ही तिहाड़ जेल पहुंच गए थे। श्रीसंत के परिजनों ने अधिकारियों से मिलकर उन्हें धन्यवाद दिया। तिहाड़ के सभी गेटों पर मीडिया कर्मियों का भारी जमावड़ा था पर किसी को रिहाई के बारे में पता नहीं चल सका।

गौरतलब है कि दिल्ली पुलिस ने श्रीसंत, चव्हाण और अजीत चंदीला को 16 मई को मुंबई से गिरफ्तार किया था। 28 मई से वह तिहाड़ जेल में थे।

नहीं भूलूंगा ये दिन: श्रीसंत

जेल से निकलने के बाद अपने वकील के घर पर मीडियाकर्मियों से बातचीत में श्रीसंत ने कहा कि जेल में बिताए दिनों को वह कभी नहीं भूलेंगे। उन्हें देश की न्यायिक प्रक्रिया में पूरा विश्वास है। वह जांच में पूरा सहयोग करेंगे। थके-थके नजर आ रहे मध्यम तेज गेंदबाज ने कहा कि जेल में बीता समय काफी मुश्किल भरा था। उन्हें पूरी उम्मीद है कि वह खुद को निर्दोष साबित कर देंगे।

दो और को जमानत

स्पॉट फिक्सिंग मामले में दो अन्य आरोपियों को साकेत कोर्ट ने मंगलवार को समानता के आधार पर जमानत दे दी। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश वीके खन्ना ने मामले में आरोपी बुकी राकेश ऊर्फ रॉकी और पूर्व क्रिकेटर अमित सिंह को 50-50 हजार रुपये के निजी मुचलके और एक-एक जमानती लाने की शर्त पर जमानत प्रदान की है। दोनों को अपना पासपोर्ट अदालत में जमा कराने को कहा है। वहीं, मामले में आरोपी क्रिकेटर अजीत चंदीला सहित पांच अन्य आरोपियों ने भी अदालत में जमानत याचिका दायर की है। इस पर बुधवार को सुनवाई होगी।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस