कोच्चि। 2013 आइपीएल स्पॉट फिक्सिंग मामले में दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट द्वारा बरी किए गए क्रिकेटर एस. श्रीसंत का घर लौटने पर भावुक स्वागत किया गया। श्रीसंत ने कहा कि 'यदि मेरा देश के सबसे वांछित भगोड़े अपराधी दाउद इब्राहिम से संबंध होता तो मैं क्रिकेटर नहीं होता। मैं इस समय दुबई या किसी अन्य देश में होता।' दिल्ली की अदालत ने शनिवार को श्रीसंत समेत सभी 36 आरोपियों को सबूतों के अभाव में इस मामले से बरी कर दिया था।

दिल्ली से कोच्चि इंटरनेशनल एयरपोर्ट पहुंचने पर भारत के इस पूर्व तेज गेंदबाज का उनके परिजनों, प्रशंसकों तथा रिश्तेदारों ने भावभीना स्वागत किया गया। श्रीसंत ने कहा- 'मैं संकट के समय में केरलवासियों द्वारा दिए गए समर्थन के लिए उनका शुक्रगुजार हूं। मैंने बड़ी मेहनत से पैसे कमाए हैं। मैं खुश हूं कि मुझे सभी तरह के आरोपों से बरी कर दिया गया है। मैं अब आज ही क्रिकेट का अभ्यास शुरू कर दूंगा। मैं उम्मीद करता हूं कि बीसीसीआई भी अब मुझ पर लगा आजीवन प्रतिबंध हटा देगा और मैं शीघ्र ही स्पर्धात्मक क्रिकेट में वापसी करूंगा।'

दो साल पहले इस कथित प्रकरण के सामने आने और पुलिस की कार्रवाई के बाद बीसीसीआई ने श्रीसंत पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया था। प्रतिबंधित किए गए अन्य दो क्रिकेटर अजित चंदिला और अंकित चव्हाण थे। इन पर अंडरवर्ल्ड डान दाउद द्वारा चलाए जा रहे संगठित अपराध सिंडिकेट में शामिल होने का आरोप था।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

खेल की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: sanjay savern

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस