नई दिल्ली। आइपीएल स्पॉट फिक्सिंग मामले के आरोपी क्रिकेटर अजीत चंदीला की जमानत अर्जी 17 जून तक टल गई। गौरतलब है कि अन्य आरोपी क्रिकेटर एस. श्रीसंत और अंकित चव्हाण को पहले ही जमानत मिल चुका है।

इससे पहले आइपीएल स्पॉट फिक्सिंग मामले में क्रिकेटर अजीत चंदीला समेत छह आरोपियों की जमानत अर्जी का दिल्ली पुलिस ने विरोध जताया। सुनवाई के दौरान अदालत में पुलिस ने कहा कि चंदीला इस मामले का मुख्य साजिशकर्ता था। वह खिलाड़ियों और सटोरियों के बीच का संपर्क सूत्र था। उसने सटोरियों से पैसे भी लिए थे। ऐसे में उसे जमानत नहीं दी जानी चाहिए।

अदालत ने मामले में पुलिस को आरोपी रमेश व्यास की जमानत अर्जी पर भी जवाब दायर करने को कहा है। व्यास 18 जून तक न्यायिक हिरासत में जेल में है। आरोपी अजीत चंदीला, बाबू राव यादव, अश्वनी अग्रवाल, दीपक कुमार, सुनील भाटिया और रमेश व्यास ने जमानत के लिए अर्जी दायर की थी। दूसरी तरफ, राजस्थान रॉयल्स के मालिक राज कुंद्रा के दोस्त उमेश गोयनका द्वारा जबरदस्ती बयान लेने के आरोप को पुलिस ने गलत बताया। अधिकारियों ने अदालत में कहा कि गोयनका ने बिना किसी दबाव के महानगर दंडाधिकारी के सामने अपने बयान दर्ज कराए थे।

सटोरिये ने लगा रखा था टेलीफोन एक्सचेंज

मामले में गिरफ्तार मुंबई के सट्टेबाज फिरोज अंसारी ने मिनी टेलीफोन एक्सचेंज स्थापित कर रखा था। आइपीएल खिलाड़ियों के पकड़े जाने के बाद उसने सट्टेबाजी का अपना सारा सेटअप ध्वस्त कर दिया था। अधिकारियों के अनुसार दूसरे सट्टेबाज रमेश व्यास ने अपने बयानों में अंडरव‌र्ल्ड से रिश्तों की बात स्वीकार क र ली है। व्यास और फिरोज दोनों के संबंध कराची में बैठे दाऊद और छोटा शकील से हैं।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

Aus-vs-Ind

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस