नई दिल्ली, संजय सावर्ण। आइपीएल 2018 के फाइनल मैच में चेन्नई सुपर किंग्स के ओपनर बल्लेबाज शेन वॉटसन की तूफानी पारी में हैदराबाद के तमाम गेंदबाज उड़ गए। वॉटसन जब अपनी पारी की शुरुआत करने आए तब वो 10 गेंदों के बाद यानी 11वें गेंद पर अपना खाता खोला और इसके बाद ऐसी पारी खेली की टीम को फाइनल में जीत दिला दी। शेन वॉटसन ने इस आइपीएल में अपना दूसरा शतक लगाया। शेन के शतक के दम पर चेन्नई ने तीसरी बार आइपीएल का खिताब अपने नाम किया। शेन वॉटसन को उनकी तूफानी पारी के लिए 'मैन ऑफ द मैच' चुना गया। 

वॉटसन ने रचा इतिहास
चेन्नई के ओपनर बल्लेबाज शेन वॉटसन का खतरनाक रूप हैदराबाद के खिलाफ फाइनल मैच में देखने को मिला। उन्होंने गेंदों 51 पर अपना शतक पूरा किया। वॉटसन ने हैदराबाद के खिलाफ 57 गेंदों पर नाबाद 117 रन की पारी खेली और अपनी टीम को जीत दिलाने में बड़ी भूमिका निभाई। शेन वॉटसन आइपीएल इतिहास के पहले ऐसे बल्लेबाज बन गए जिन्होंने रन चेज करते हुए शतक लगाया। वॉटसन ने अपनी शतकीय पारी के दौरान 11 चौके और 8 छक्के लगाए। उनका स्ट्राइक रेट 205.26 का रहा। 

ठोका इस आइपीएल का दूसरा शतक
शेन वॉटसन इस आइपीएल में दो शतक लगाने वाले एकमात्र खिलाड़ी रहे। इस मैच से पहले उन्होंने लीग मुकाबले में राजस्थान के खिलाफ 106 रन की पारी खेली थी। इसके बाद फाइनल मुकाबले में उन्होंने हैदराबाद के खिलाफ नाबाद 117 रन बनाए। वैसे वॉटसन ने अपने अब तक के आइपीएल करियर में कुल चार शतक लगाए हैं। 

आइपीएल 2018 में शेन का सफर
शेन वॉटसन की बल्लेबाजी की बात करें तो उन्होंने आइपीएल में खेले 15 मैचों में 39.64 की औसत से 555 रन बनाए। रन बनाने के मामले में आइपीएल में पांचवें नंबर पर रहे। वॉटसन ने 15 मैचों में 2 शतक और 2 अर्धशतक लगाए और उनका स्ट्राइक रेट 154.59 का रहा। वॉटसन ने इस आइपीएल में 44 चौके और 35 छक्के लगाए। हालांकि गेंदबाजी में वो कुछ खास नहीं कर पाए और सिर्फ 6 विकेट ही ले सके। शेन के पूरे आइपीएल करियर की बात करें तो  उन्होंने 117 मैचों में 3177 रन बनाए हैं। जबकि इतने ही मैचों में उनके नाम पर 92 विकेट है। आइपीएल करियर की उन्होंने सर्वश्रेष्ठ पारी इस सीजन के फाइनल में हैदराबाद के खिलाफ खेला और नाबाद 117 रन बनाए जबकि उनकी सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी 29 रन देकर 4 विकेट रहा है। 

आइपीएल की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sanjay Savern