नई दिल्ली, जेएनएन। वर्ल्ड कप 2019 के सेमीफाइनल में टीम इंडिया को न्यूजीलैंड के हाथों करारी हार मिली और इसके बाद ये खबर सामने आई कि टीम इंडिया में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है। खबरें ये भी सामने आईं कि टीम इंडिया दो धड़ो में बटी हुई है। इसमें से एक ग्रुप विराट कोहली का तो दूसरा ग्रुप रोहित शर्मा का था। गल्फ न्यूज की मानें तो रोहित शर्मा के ग्रुप को विराट कोहली और रवि शास्त्री के फैसले नागवार गुजरे थे। कई मौकों पर रोहित शर्मा ने विराट के फैसले पर आपत्ति जताई थी। इसके बाद से ही दोनों में मतभेद बढ़ते चले गए। सेमीफाइनल मैच में मो. शमी को बैठाए जाने के फैसले से रोहित शर्मा और उनके ग्रुप के साथी नाराज थे। इसके पीछे वजह ये थी कि शमी ने चार मैचों में 14 विकेट लिए थे और अच्छी गेंदबाजी कर रहे थे। वहीं रवींद्र जडेजा को विश्व कप के कई मैचों में मौका नहीं दिए जाने पर भी मतभेद था। हालांकि जडेजा ने सेमीफाइनल में कमाल की पारी खेली थी और टीम को जीत के करीब पहुंचा दिया था पर भारतीय टीम फिर भी हार गई।

हालांकि सेमीफाइनल की टीम पर नजर डाली जाए तो इसमें सच्चाई नजर आती है। न्यूजीलैंड के खिलाफ सेमीफाइनल मैच में जब जडेजा चौके-छक्के लगा रहे थे तब रोहित शर्मा ड्रेसिंग रूम से उनका उस्ताह बढ़ा रहे थे। गल्फ न्यूज की मानें तो सेमीफाइनल में हार के बाद रोहित शर्मा के गुट ने विराट को कप्तानी से हटाने की बात की कही। गेंदबाजी कोच भरत अरुण ने भी माना था कि कुछ खिलाड़ी एक टीम यूनिट के तौर पर काम कर रहे हैं, लेकिन कभी-कभी ऐसी बातें हो जाती हैं। आपको बता दें कि विराट ने कभी भी कोई आईसीसी टूर्नामेंट नहीं जीता है। 

वर्ल्ड कप के बाद वेस्टइंडीज दौरे के लिए ये कहा जा रहा था कि विराट आराम करेंगे और उनकी जगह वनडे और टी 20 टीम का कप्तान रोहित को बनाया जाएगा। पहले भी विराट की गैरमौजूदगी में रोहित टीम की कमान संभाल चुके हैं पर तनातनी के दावों के बीच विराट ने  आराम करने का विचार त्याग दिया और वो कैरेबियाई दौरे पर जाने के लिए तैयार हो गए। शायद विराट को इस बात का डर था कि अगर रोहित की कप्तानी में टीम का प्रदर्शन अच्छा रहा तो शायद उन्हें वनडे व टी 20 टीम की कप्तानी दी जा सकती है। वहीं ऐसी खबरें भी आ रही थी कि विराट टेस्ट की कप्तानी करेंगे और रोहित को वनडे व टी 20 की कप्तानी सौंपी जा सकती है। वैसे एक बात और है कि तमाम खबरों या यूं कहें कि अफवाहों को लेकर बोर्ड या फिर टीम मैनेजमेंट की तरफ से कोई बयान नहीं दिया गया था। 

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sanjay Savern