लंदन, जेएनएन। मुख्य कोच रवि शास्त्री ने बुधवार को कहा था कि पिछले 15 साल में विदेशी दौरों पर जाने वाली यह सर्वश्रेष्ठ भारतीय टीम है। हालांकि, तथ्य इसे साबित नहीं करते। आगर हम सौरव गांगुली, राहुल द्रविड़, अनिल कुंबले और महेंद्र सिंह धौनी की कप्तानी वाली टीम इंडिया के आंकड़ों को देखें तो शास्त्री का ये बयान सही नहीं लगता।

आंकड़े देखें तो सौरव गांगुली की अगुआई में भारत ने इंग्लैंड (2002) और ऑस्ट्रेलिया (2003-04) में सीरीज ड्रॉ करवाईं और वेस्टइंडीज में टीम टेस्ट मैच और पाकिस्तान में सीरीज जीतने में सफल रही।

इसके बाद राहुल द्रविड़ के नेतृत्व में भारत ने वेस्टइंडीज में 2006 और इंग्लैंड में 2007 में सीरीज जीती। टीम दक्षिण अफ्रीका में भी एक टेस्ट जीतने में सफल रही।

वहीं अनिल कुंबले की अगुआई में भारत ने पर्थ के उछाल भरे विकेट पर पहली बार टेस्ट जीता, जबकि महेंद्र सिंह धौनी के नेतृत्व में भारत ने न्यूजीलैंड में सीरीज जीती और पहली बार दक्षिण अफ्रीका में सीरीज ड्रॉ कराने में सफल रही।

हालांकि, धौनी की टीम ने इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया में लगातार दो सीरीज 0-4, 0-4 से हारी थीं। विराट की कप्तानी में दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड में लगातार दो सीरीज गंवाने के बाद विदेशी दौरे पर अच्छा प्रदर्शन करने वाली टीम का मिथक टूट गया है।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Pradeep Sehgal

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप