नई दिल्ली, जेएनएन। टीम इंडिया के सीनियर स्पिनर आर अश्विन (R Aswhwin) का वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट रिकॉर्ड कमाल का रहा है। हालांकि उनके बेहतरीन रिकॉर्ड के बावजूद  इस बार उन्हें वेस्टइंडीज के खिलाफ दो मैचों की टेस्ट सीरीज के लिए प्लेइंग इलेवन में शामिल नहीं दिया गया। अश्विन की जगह दोनों ही मैचों में रवींद्र जडेजा को तरजीह दी गई और उन्हें बाहर बैठना पड़ा। 

वेस्टइंडीज दौरा खत्म हो चुका है और अब टीम इंडिया स्वदेश वापस लौटने वाली है, लेकिन अश्विन टीम के साथ भारत नहीं लौटेंगे। अश्विन वेस्टइंडीज से सीधे इंग्लैंड के लिए रवाना हो जाएंगे जहां उन्हें काउंटी क्रिकेट में हिस्सा लेना है। अश्विन नॉटिंघमशायर टीम का हिस्सा हैं। वैसे भारत को अब साउथ अफ्रीका के खिलाफ टी20  सीरीज खेलना है और उसके बाद टेस्ट सीरीज खेला जाएगा। अश्विन भारतीय टी20 टीम का हिस्सा नहीं हैं, लेकिन हो सकता है वो टेस्ट सीरीज के लिए टीम में चुने जाएं और फिर वो टीम इंडिया के लिए खेलते दिखें। 

गौरतलब है कि अश्विन को वेस्टइंडीज के खिलाफ दोनों टेस्ट मैचों में प्लेइंग इलेवन में शामिल नहीं किए जाने के पीछे टीम के कोच रवि शास्त्री ने तर्क दिया था कि जडेजा की बल्लेबाजी में काफी सुधार हुआ है और वो सपाट पिच पर अच्छे नियंत्रण के साथ गेंदबाजी करते हैं जिसकी वजह से उन्हें प्लेइंग इलेवन में मौका दिया गया। जडेजा ने वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट में अच्छा प्रदर्शन किया था। 

वैसे बात जब अश्विन के वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट में प्रर्दशन की हो तो ये कमाल का रहा है। उन्होंने कैरेबियाई टीम के खिलाफ 11 टेस्ट मैचों में 60 विकेट लिए हैं जबकि उनके बल्ले से 552 रन निकले हैं जिसमें चार शतक शामिल है। इस वर्ष की बात करें तो अब तक उन्होंने भारत के लिए कोई भी मैच नहीं खेला है। उन्होंने अपना आखिरी टेस्ट मैच भारत के लिए ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पिछले वर्ष खेला था। हालांकि साउथ अफ्रीका के खिलाफ उन्हें टेस्ट टीम में जगह दी जा सकती है, लेकिन अहम सवाल ये है कि क्या उन्हें अंतिम ग्यारह में मौका मिल पाएगा। 

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sanjay Savern

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप