नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। आइपीएल फ्रेंचाइजी पंजाब किंग्स इंडियन प्रीमियर लीग 2022 की नीलामी से पहले किसी भी खिलाड़ी को रिटेन नहीं करने का फैसला किया है। इस बार 30 नवंबर तक सभी आठों फ्रेंचाइजी को अपने द्वारा रिटेन किए जाने वाले खिलाड़ियों की सूची जारी करनी है। ऐसे में सभी टीमें खिलाड़ियों को रिटेन करने को लेकर माथा-पच्ची कर रही है, लेकिन इस बार ऐसा लग रहा है कि पंजाब किंग्स फ्रेंचाइजी ने अपनी टीम को पूरी तरह से बदलने का फैसला किया है। 

पंजाब किंग्स अगर किसी खिलाड़ी को रिटेन नहीं करती है तो इसका मतलब ये है कि ये टीम अपने पर्स में मौजूद पूरे 90 करोड़ की रकम के साथ अगले मेगा आक्शन में उतरेगी। इससे पहले ये खबर सामने आई थी कि पंजाब के लिए 2020 और 2021 में कप्तानी करने वाले केएल राहुल इस टीम के साथ अपना सफर आगे नहीं बढ़ाना चाहते हैं। हालांकि प्रीति जिंटा की सह-स्वामित्व वाली ये टीम निश्चित तौर पर केएल राहुल को अपने बोर्ड में चाहती थी। केएल राहुल के अलावा पंजाब किसी अन्य खिलाड़ी को रिटेन नहीं करना चाहती थी। 

केएल राहुल पंजाब के साथ साल 2018 में जुड़े थे और लगातार अपनी टीम के लिए बेहतरीन बल्लेबाजी करते हुए खूब रन बना रहे थे। साल 2018 में उन्होंने पंजाब के लिए 659 रन, 2019 में 593 रन, 2020 में 670 रन और 2021 में 626 रन बनाए थे। पिछले चार सीजन में तीन बार उन्होंने 600 से ज्यादा रन बनाने में कामयाबी हासिल की थी। अब खबरों के मुताबिक केएल राहुल पंजाब के लिए नहीं खेलना चाहते हैं तो ऐसे में पीबीकेएस ने फैसला किया है कि वो इस बार पूरी टीम बदल देंगे। 

द टेलीग्राफ के मुताबिक पंजाब अनकैप्ड खिलाड़ी रवि बिश्नोई और अर्शदीप सिंह को रिटेन करने पर विचार कर रही है, लेकिन उन्होंने इन खिलाड़ियों को लेकर अपना मन नहीं बनाया है। इन दोनों अनकैप्ड खिलाड़ियों में से किसी एक को रिटेन करने के लिए पंजाब को चार करोड़ रुपये खर्च करने होंगे। इसलिए ऐसा हो सकता है कि रवि या फिर अर्शदीप में से कोई एक इस टीम के साथ बने रहें, लेकिन ये साफ नहीं है। वहीं केएल राहुल अगर पंजाब के साथ नहीं जुड़ेंगे तो दो नई फ्रेंचाइजी लखनऊ या फिर अहमदाबाद में से कोई टीम जरूर उन्हें अपने साथ जोड़ने की कोशिश करेगी जिन्हें तीन खिलाड़ियों को नीलामी से पहले अपने साथ जोड़ने की अनुमति दी गई है। 

Edited By: Sanjay Savern