पोर्ट एलिजाबेथ, जेएनएन। जोहानिसबर्ग में चौथे वनडे मैच में भारत की हार के बाद अब इस सीरीज़ का कारवां जा पहुचा है पोर्ट एलिजाबेथ। सीरीज का पांचवा मुकाबला पोर्ट एलिजाबेथ में होना है। इस मुकाबले के लिए जब टीम इंडिया यहां पहुंचीं तो शानदार स्वागत हुआ। 

ड्रम और पारंपरिक वाद्य यंत्रों के जरिए टीम का स्वागत किया गया। खिलाड़ी और टीम स्टाफ भी इस स्वागत से काफी खुश नजर आया। इससे जुड़ा एक वीडियो बीसीसीआइ ने ट्विटर पर पोस्ट किया है, जिसमें बोर्ड ने लिखा- “ टीम इंडिया का पारंपरिक स्वागत किया गया, जब वो पांचवे वनडे के लिए पोर्ट एलिजाबेथ पहुंचीं।

आंकड़े बदलने की होगी कोशिश

इस मैदान आंकड़े टीम इंडिया को डरा रहे हैं। पिछले 25 सालों से टीम इंडिया इस मैदान पर एक अदद जीत के लिए तरस रही है। 1992 से अब तक टीम इंडिया ने पोर्ट एलिजाबेथ के सेंट जॉर्ज पार्क में चार वनडे खेले हैं, जिसमें टीम इंडिया को चारों ही मुकाबलों में हार का सामना करना पड़ा है। हालांकि इस सीरीज में टीम शानदार फॉर्म में है। अब तक चार में से तीन मुकाबले जीत चुकी है। ऐसे में टीम इंडिया का पलड़ा भारी नजर आ रहा है। हालांकि इस मैदान पर टीम का रिकॉर्ड अच्छा नहीं है। ऐसे में कोहली की कप्तानी में टीम इंडिया ये दाग भी धोना चाहेगी।

यह भी पढ़ें: अपनों ने ही विराट कोहली को किया परेशान, देखता रह गया पूरा हिंदुस्तान

रचा जाएगा इतिहास?

इसके दाग को धोने के साथ-साथ टीम इंडिया इस मैच को जीतकर इतिहास भी रचना चाहेगी। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 6 मैचों की वनडे सीरीज में भारत 3-1 से आगे है और अगर भारतीय टीम इस पांचवें मैच को जीत लेगी तो वो प्रोटियाज की धरती पर पहली बार वनडे सीरीज़ जीतने का कमाल भी कर दिखाएगी। इससे पहले कोई भी भारतीय टीम द. अफ्रीका में न तो टेस्ट सीरीज़ जीत सकी है और न ही वनडे सीरीज़ कोहली की सेना से भारतीय फैंस को टेस्ट में भी यही उम्मीद थी कि इस बार ये इतिहास बदल जाएगा, लेकिन टेस्ट में फैंस के हाथ निराशा ही लगी, लेकिन अब कोहली एंड कंपनी पोर्ट एलिजाबेथ के पुराने रिकॉर्ड को बलने के साथ-साथ इतिहास भी रचना चाहेगी।

यह भी पढ़ें: द. अफ्रीका की जीत के हीरो क्लासेन ने कोहली पर उठाए सवाल, बताई भारत की हार की वजह

डरबन में खेले गए इस सीरीज़ के पहले मुकाबले को भारत ने 6 विकेट से अपने नाम किया था। इस मैच में  कोहली ने 112 रन की शानदार पारी खेली थी। दूसरे मुकाबले में भारतीय टीम ने पहले गेंदबाज़ी करते हुए द. अफ्रीकी टीम को सिर्फ 118 रन पर ढेर कर दिया था और इस मैच को 9 विकेट से जीत लिया था। केपटाउन में खेले गए तीसरे मैच में भारतीय टीम ने कोहली के नाबाद 160 रन की बदौलत 303 रन का स्कोर बनाया और इसके जबाव में द. अफ्रीकी टीम चहल और कुलदीप की फिरकी में फंसकर 179 रन पर ढेर हो गई। इस मुकाबले में भारत ने 124 रन से जीत दर्ज़़ की थी। इसके बाद चौथे मुकाबले में भारत ने पहले बल्लेबाज़ी करते हुए 289 रन बनाए। बारिश से प्रभावित इस मैच में प्रोटियाज को 28 ओवर में 202 रन का लक्ष्य मिला जिसे द. अफ्रीकी टीम ने चेज कर इस सीरीज़ में अपनी जीत का खाता खोल लिया। जोहानिसबर्ग में खेले गए चौथे मैच में द. अफ्रीकी टीम गुलाबी जर्सी में उतरी थी। इस मैच को जीतकर उसने गुलाबी जर्सी में अपने कभी न हारने के रिकॉर्ड को भी कायम रखा।  

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें 

By Pradeep Sehgal