मुंबई। भारत और वेस्टइंडीज के बीच 14 नवंबर से शुरू हो रहे दूसरे और अंतिम टेस्ट मैच में पिच कम घुमाव और उछाल वाली होगी। सचिन के करियर के अंतिम टेस्ट मैच के लिए वानखेड़े स्टेडियम की पिच तैयार करने वाले क्यूरेटर सुधीर नाइक के मुताबिक इस मैच में विकेट उसी तरह व्यवहार करेगा, जैसा दो साल पहले दोनों टीमों के बीच हुए ड्रॉ मुकाबले में देखने को मिला था।

भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज नाइक ने कहा कि हमने चार दिन पहले ही अपनी तैयारी शुरू की है। पिच में वैसा टर्न देखने को नहीं मिलेगा जैसा कि पिछले साल इंग्लैंड के खिलाफ हुए मैच में देखने को मिला था। पिच 2011 में वेस्टइंडीज के खिलाफ हुए मैच की तरह कम घुमाव और उछाल वाली होगी। नवंबर 2011 में खेले गए मैच में 243 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए भारत नौ विकेट पर 242 रन ही बना पाया था और मैच रोमांचक ड्रॉ रहा था। तीन मैचों की सीरीज में भारत क्लीन स्वीप की ओर था, लेकिन उसे 2-0 से ही संतोष करना पड़ा था।

पढ़ें: बड़ी जिम्मेदारी के लिए तैयार हैं रोहित

हालांकि मैच के बाद भारतीय स्पिनर आर. अश्विन ने धीमी और कम उछाल के लिए पिच की आलोचना की थी। अश्विन ने इस मैच में नौ विकेट लिए थे और शतक भी लगाया था। इस बीच, कोलकाता टेस्ट जल्दी खत्म होने के कारण वेस्टइंडीज की टीम रविवार को वानखेड़े में अभ्यास करेगी। 11 नवंबर को सचिन के एमसीए द्वारा सचिन के सम्मान कार्यक्रम होने के कारण कोई भी टीम अभ्यास नहीं करेगी, जबकि 12 और 13 को दोनों टीमें यहां अभ्यास करेंगी।

मीडिया बॉक्स की प्रतिष्ठा से एमसीए का खिलवाड़

मुंबई। मुंबई क्रिकेट संघ (एमसीए) ने सचिन तेंदुलकर के अंतिम टेस्ट के लिए प्रेस बॉक्स की प्रतिष्ठा से खिलवाड़ करते हुए इसका एक हिस्सा वीवीआइपी के लिए आरक्षित रखने की योजना बनाई है। एमसीए सूत्रों के मुताबिक, प्रेस बॉक्स के एकदम बायें तरफ 28 सीटों को वीवीआइपी के लिए आरक्षित रखा है। हालांकि वीवीआइपी का प्रवेश द्वारा अलग होगा, जैसा पिछले साल आइपीएल मैचों के दौरान किया गया था। आइपीएल-6 के दौरान घरेलू टीम मुंबई इंडियंस के शीर्ष अधिकारियों ने प्रेस बॉक्स का इस्तेमाल किया था।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस