लाहौर। विश्व कप-2015 में पाकिस्तान क्रिकेट टीम के भारत व वेस्टइंडीज के हाथों हार व शर्मनाक प्रदर्शन से नाराज एक प्रशंसक ने लाहौर हाई कोर्ट में याचिका दाखिल की। इस याचिका को स्वीकार कर लिया गया है और इस पर आज सुनवाई होगी। इस याचिका में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ, पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) के अध्यक्ष शहरयार खान और पीसीबी बोर्ड के सदस्य नजम सेठी को आरोपी बनाया गया है।

नजम सेठी को पीसीबी से हटाने की मांग

याचिकाकर्ता रिजवान गुल ने विश्व कप में टीम के प्रदर्शन पर सवाल खड़ा करते हुए न्यायालय से खराब प्रदर्शन के कारणों की जांच की मांग की है। गुल ने कहा कि पाकिस्तान मुस्लिम लीग (एन) सरकार ने सेठी को पीसीबी का चेयरमैन बनाया है और सेठी पीसीबी में अपनी मनमर्जी से काम कर रहे हैं। टीम में खिलाड़ियों का चयन मेरिट के तहत नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार, सेठी को पीसीबी से हटा दिया जाना चाहिए। लाहौर हाई कोर्ट के जस्टिस इजाजुल हसन आज इस मामले की सुनवाई करेंगे।

गौरतलब है कि पाकिस्तान को विश्व कप के ग्रुप बी के अपने शुरुआती दोनों मैचों में बेहद शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा। पहले मैच में चिर प्रतिद्वंद्वी भारत के हाथों उसे 76 रनों से हार मिली तो दूसरे मैच में वेस्ट इंडीज ने उसे 150 रनों से हराया था।

टीम के प्रदर्शन से समर्थक नाराज
विश्व कप में पाक टीम के शर्मनाक प्रदर्शन से समर्थकों में खासी नाराजगी है। पाकिस्तानी क्रिकेट प्रेमी टीम का जबर्दस्त विरोध कर रहे हैं। इससे दुखी पीसीबी के कार्यकारी समिति के अध्यक्ष नजम सेठी ने विरोध के तरीकों पर आपत्ति जताई है। उन्होंने कहा कि जिस तरह खराब प्रदर्शन के बाद क्रिकेट खिलाड़ियों का पाकिस्तान में विरोध होता है वैसा और किसी देश में नहीं।

कैसिनो जाने पर मांगी सफाई
इस बीच पीसीबी ने पाक टीम के साथ टूर पर गए पाकिस्तान के मुख्य चयनकर्ता मोइन खान से कैसिनो जाने की बाबत सफाई मांगी है। आपको बता दें कि ऐसी खबरें आईं हैं कि वेस्टइंडीज से अहम मुकाबले के पहले मोइन खान एक कैसिनो में गए थे।

पढ़ेंः टीम इंडिया का समर्थन करने पर फेडरर ने अपने फैन से मांगी माफी

पढ़ेंः सचिन ने धौनी की बात का किया समर्थन, कहा कुछ ऐसा...

Posted By: anand raj

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस