अभिषेक त्रिपाठी, नई दिल्ली। विश्व टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल में न्यूजीलैंड से हारने के बाद बीसीसीआइ के पांच पदाधिकारियों ने मुंबई में बैठक करके विराट कोहली की कप्तानी और अलग-अलग फार्मेट में अलग-अलग कप्तानों पर चर्चा की थी। नौ सितंबर को यह खबर दैनिक जागरण में छपी।

16 सितंबर को विराट ने टी-20 विश्व कप के बाद क्रिकेट के सबसे छोटे फार्मेट की कप्तानी छोड़ने की घोषणा की। उसको चार महीने भी नहीं बीते हैं और अब विराट किसी भी फार्मेट में टीम इंडिया के कप्तान नहीं हैं। वनडे और टी-20 में रोहित शर्मा को पहले ही कप्तान घोषित कर दिया गया है। हालांकि वह चोट के कारण दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ वनडे सीरीज में नहीं खेल रहे हैं। उनकी जगह वनडे टीम में कप्तानी करने वाले और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दूसरे टेस्ट में टीम की कमान संभालने वाले ओपनर बल्लेबाज भारत के टेस्ट कप्तान होंगे।

बीसीसीआइ के सूत्र ने कहा कि अभी इस पर फैसला नहीं लिया गया है लेकिन राहुल ही नए टेस्ट कप्तान होंगे। समय आने पर उसकी घोषणा की जाएगी। हम लाल और सफेद गेंद के लिए दो अलग-अलग कप्तानों की योजना पर ही आगे बढ़ेंगे। सफेद गेंद के स्थायी कप्तान रोहित हैं। लाल गेंद की कमान केएल राहुल को मिलेगी। आपको बता दें कि साउथ अफ्रीका दौरे पर केएल राहुल टेस्ट टीम के उप-कप्तान बनाए गए थे। रोहित के चोटिल होने के बाद बोर्ड ने ये कदम उठाया था। वहीं केएल राहुल को साउथ अफ्रीका के खिलाफ जोहानसबर्ग टेस्ट मैच में पहली बार टेस्ट टीम की कप्तानी करने का भी मौका मिला, लेकिन भारतीय टीम को हार मिली थी। 

Edited By: Sanjay Savern