नई दिल्ली, प्रेट्र। क्रिकेटरों की मानसिक स्थिति को बेहतर रखने के लिए बीसीसीआइ के दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पांच टी-20 मैचों की आगामी सीरीज से बायो-बबल (कोरोना से बचाव के लिए बनाए गए सुरक्षित माहौल) का इस्तेमाल नहीं करने की पूरी संभावना है।

कोविड-19 महामारी को देखते हुए बायो-बबल क्रिकेटरों के जीवन का अहम हिस्सा बन गए थे और विदेशों तथा स्वदेश में लगभग सारी सीरीज बायो-बबल में हुई, जिनमें कड़े नियमों को लागू किया गया। टी-20 सीरीज के मुकाबले नौ से 19 जून के बीच दिल्ली, कटक, विशाखापत्तनम, राजकोट और बेंगलुरु में खेले जाने हैं।

खिलाड़ियों और अधिकारियों की सुरक्षा को देखते हुए आइपीएल बायो-बबल में खेला जा रहा है। आइपीएल 29 मई को खत्म होगा और बीसीसीआइ नहीं चाहता कि उसके खिलाड़ी लीग खत्म होने के बाद एक बार फिर बायो-बबल से सुरक्षित माहौल का हिस्सा बनें। बीसीसीआइ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, 'अगर सब कुछ सही रहा और चीजें अभी की तरह नियंत्रण में रहीं तो दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ घरेलू सीरीज के दौरान बायो-बबल और कड़ा क्वारंटाइन नहीं होगा। इसके बाद हम आयरलैंड और इंग्लैंड जाएंगे और इन देशों में भी कोई बायो-बबल नहीं होगा।'

बोर्ड को पता है कि बायो-बबल में जीवन लंबे समय तक व्यावहारिक नहीं है क्योंकि इससे खिलाडि़यों का मानसिक स्वास्थ्य प्रभावित होता है। अधिकारी ने कहा, 'कुछ खिलाड़ियों को समय-समय पर ब्रेक मिला है, लेकिन अगर बड़ी तस्वीर देखें तो एक के बाद एक सीरीज और अब दो महीने आइपीएल के दौरान बायो-बबल का हिस्सा होना खिलाड़ियों के लिए काफी थकाऊ है।'

ब्रिटेन में अभी किसी भी खेल के लिए बायो-बबल नहीं है और इसलिए उम्मीद है कि भारतीय टीम को भी वहां बायो-बबल का हिस्सा नहीं बनना होगा। भारतीय टीम को ब्रिटेन में तीन हफ्ते में एक टेस्ट और सीमित ओवरों के छह मुकाबले खेलने हैं। हालांकि माना जा रहा है कि खिलाडि़यों का नियमित परीक्षण होगा जिससे कि सुनिश्चित हो सके कि टीम में कोई पाजिटिव मामला नहीं हो। कप्तान रोहित शर्मा के अलावा सीनियर बल्लेबाजों विराट कोहली, लोकेश राहुल, विकेटकीपर रिषभ पंत, तेज गेंदबाजों जसप्रीत बुमराह, मुहम्मद शमी, स्पिनर रवींद्र जडेजा के काम के बोझ के प्रबंधन के लिए प्रभावी कार्यक्रम तैयार किया जा रहा है जिससे कि ब्रिटेन रवाना होने से पहले उन्हें पर्याप्त आराम मिल सके।

सूत्र ने कहा, 'नौ से 19 जून के बीच पांच शहरों में पांच टी-20 मुकाबले होंगे। बेशक सभी खिलाड़ी सभी मैच नहीं खेलेंगे। किसी को पूर्ण आराम दिया जा सकता है और किसी को कुछ मैच खेलने पड़ सकते हैं। अगर इन खिलाडि़यों को नियंत्रित ब्रेक नहीं दिया गया तो इनको नुकसान ही होगा। लेकिन बेशक ब्रेक के बारे में चयनकर्ता मुख्य कोच (राहुल द्रविड़) के साथ बात करके फैसला करेंगे।' यह देखना होगा कि हार्दिक पंड्या को आइपीएल के बाद दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ घरेलू सीरीज के लिए भारतीय टीम में जगह मिलती है या फिर उन्हें सीधे आयरलैंड के खिलाफ टी-20 सीरीज के लिए चुना जाता है।

Edited By: Sanjay Savern