अभिषेक त्रिपाठी, नई दिल्ली। भारत में सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी के साथ घरेलू क्रिकेट की शुरुआत हो गई है और इससे उत्साहित भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआइ) देश में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के आयोजन की तैयारियों में जुट गया है।

भारतीय टीम फिलहाल ऑस्ट्रेलिया में चौथा और आखिरी टेस्ट खेल रही है। इसके बाद इंग्लैंड की टीम भारत आएगी और चार टेस्ट, पांच टी-20 और तीन वनडे खेलेगी। पहला टेस्ट पांच फरवरी को खेला जाएगा और आखिरी वनडे 28 मार्च को खेला जाएगा। इसके बाद आइपीएल होगा। बीसीसीआइ फिलहाल इसे भारत में ही आयोजित करने की तैयारी में है। आइपीएल के बाद न्यूजीलैंड की टीम भारत का दौरा करेगी।

न्यूजीलैंड को पहले अक्टूबर-नवंबर में भारत में होने वाले टी-20 विश्व कप के बाद दो टेस्ट तीन टी-20 मुकाबलों की सीरीज खेलनी थी लेकिन अब वह विश्व कप से पहले ही भारत आएगी। बीसीसीआइ के एक पदाधिकारी ने कहा कि न्यूजीलैंड क्रिकेट बोर्ड से इस दौरे को लेकर बात हो चुकी है। बस यह फाइनल होना है कि किस प्रारूप के कितने मुकाबले खेले जाएंगे। भारतीय टीम को पहले जून में श्रीलंका दौरे पर जाना था और वहां तीन वनडे व पांच टी-20 खेलने थे। इसके बाद श्रीलंका में ही एक जुलाई से एशिया कप होना है।

बीसीसीआइ न्यूजीलैंड टीम के भारत दौरे को इसलिए भी ज्यादा महत्व दे रही है क्योंकि पिछले साल दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ कोरोना के कारण रद हुई सीरीज के बाद से देश में कोई भी सीरीज नहीं हुई है और बीसीसीआइ ज्यादा से ज्यादा टीमों की मेजबानी करके राजस्व भी एकत्रित करना चाहता है। इसके अलावा भारतीय टीम के प्रसारणकर्ता का भी बीसीसीआइ पर दबाव है।

आइपीएल के भारत या दुबई में कराए जाने के सवाल पर बीसीसीआइ पदाधिकारी ने कहा कि जब हम इंग्लैंड टीम की मेजबानी भारत में कर रहे हैं तो फिर आइपीएल के विदेश में कराने की बात कैसे कर सकते हैं। अभी तो बीसीसीआइ इस बात पर ही आगे बढ़ रहा है कि आइपीएल को भारत में कराया जाए। आगे अगर स्थितियों में बदलाव होगा तो उस पर फैसला बाद में लिया जाएगा।

Ind-vs-End

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप