राजकोट। तीसरे वनडे में अपनी बेहतरीन गेंदबाजी से दक्षिण अफ्रीका को जीत दिलाने वाले तेज गेंदबाज मोर्ने मॉर्केल मैच के दौरान चोटिल थे और उनके पैरों में सूजन थी। यह खुलासा टीम के कप्तान एबी डीविलियर्स ने मैच के बाद किया।

डि'विलियर्स ने कहा- मोर्नी छह ओवर फेंकने के बाद मेरे पास आया और बताया कि उसके पैर में सूजन है। उसने रिटर्न स्पैल में इतनी बढ़िया गेंदबाजी की कि अंतिम ओवरों के लिए मुझे उसका एक ओवर बचाना पड़ा। पैर में चोट के बाद मॉर्केल के लिए मैदान छोड़कर जाना आसान था, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया। वे जानते थे कि टीम को उनकी जरूरत है। पैर में सूजन के बावजूद उन्होंने आखिरी चार ओवर में शानदार गेंदबाजी की।

दक्षिण अफ्रीकी कप्तान ने विकेटकीपर डी'कॉक के प्रदर्शन की भी सराहना की। डी कॉक ने 118 गेंदों की अपनी पारी में 103 रन बनाए थे। उनकी पारी की मदद से दक्षिण अफ्रीका ने बड़ा स्कोर खड़ा किया था। डी कॉक ने अदभुत प्रदर्शन किया। स्पिनरों और तेज गेंदबाजों के खिलाफ उसका प्रदर्शन शानदार रहा। वह परिपक्व पारी थी। उसने इससे अपने आलोचकों को भी जवाब देकर दिखा दिया कि वह क्या कर सकता है। उन्होंने कहा कि अंत तक हार नहीं मानना और जुझारूपन बनाए रखना जरूरी है। मैंने मैच से पहले और मैच के दौरान भी टीम बैठकों में इसे दोहराया है। डि'विलियर्स ने कहा कि मैंने मैदान पर खिलाड़ियों से तल्ख लहजे में बात की क्योंकि गेंदबाजी में हमारी शुरुआत अच्छी नहीं हुई थी, लेकिन हम कभी हार नहीं मानते और आखिरी 15 ओवरों में टीम ने वह जुझारूपन दिखाया। उन्होंने कहा कि डेविड मिलर बल्लेबाजी क्रम में उपर आए और डी कॉक ने भी उम्दा प्रदर्शन किया। दोनों स्पिनरों के खिलाफ काफी सहज दिखे। विकेट आसान नहीं था लेकिन उनकी बल्लेबाजी ऐसी रही कि वह आसान दिखने लगा।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

खेल की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: sanjay savern

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस