नई दिल्ली। टीम इंडिया के स्पिनर अमित मिश्रा के लिए श्रीलंका दौरा बेहद यादगार रहा। चार वर्ष बाद टेस्ट टीम में वापसी करने वाले इस 32 वर्षीय लेग स्पिनर गेंदबाज ने इतिहास रच दिया। वे तीन टेस्ट मैचों की सीरीज में 15 विकेट लेने और 150 से अधिक रन बनाने वाले पहले भारतीय क्रिकेटर बन गए। उन्होंने इस दौरान कई कीर्तिमान स्थापित किए।

मिश्रा ने तीन टेस्ट मैचों की इस सीरीज में 15 विकेट लिए और 157 रन भी बनाए। मिश्रा ने आखिरी टेस्ट मैच में गेंद की बजाए बल्ले के साथ ज्यादा योगदान दिया। जब टीम इंडिया 180 रनों पर 7 विकेट खोकर संघर्ष कर रही थी तब उन्होंने नौवें क्रम पर उतरकर न केवल 59 रन बनाए, बल्कि चेतेश्वर पुजारा के साथ 104 रनों की रिकॉर्ड साझेदारी कर टीम को सुखद स्थिति में पहुंचाया। यह इस मैदान पर आठवें विकेट के लिए रिकॉर्ड साझेदारी बन गई, यह भारत की तरफ से भी श्रीलंका के खिलाफ आठवें विकेट के लिए रिकॉर्ड साझेदारी हुई।

इस तरह अमित मिश्रा श्रीलंका के खिलाफ नौवें क्रम पर बल्लेबाजी कर अर्द्धशतक बनाने वाले पहले भारतीय क्रिकेटर बन गए। उन्होंने कोलंबो में तीसरे टेस्ट की पहली पारी में 59 रन बनाए। वैसे दूसरी पारी में रविचंद्रन अश्विन ने भी नौवें क्रम पर बल्लेबाजी कर 58 रनों की पारी खेली। इससे पहले श्रीलंका के खिलाफ भारत की तरफ से नौवें क्रम पर सर्वाधिक रनों का रिकॉर्ड अजीत आगरकर के नाम दर्ज था जब उन्होंने दिसंबर 2005 में अहमदाबाद में 48 रन बनाए थे।

मिश्रा ने कोलंबो में तीसरे टेस्ट में करियर का तीसरा अर्द्धशतक बनाया। इससे पहले उन्होंने नाइटवॉचमैन के रूप में खेलते हुए दो अर्द्धशतक लगाए थे। उन्होंने जनवरी 2010 में चित्तगोंग में बांग्लादेश के खिलाफ तीसरे क्रम पर उतरते हुए 50 रनों की पारी खेली थी। इसके बाद उन्होंने यह कारनामा इंग्लैंड के खिलाफ किया था, जब वे अगस्त 2011 में ओवल में नाइट वॉचमैन के रूप में पांचवें क्रम पर उतरे थे और उन्होंने 84 रनों की यादगार पारी खेली थी।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

खेल की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: sanjay savern

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप