ढ़ाका, प्रेट्र। बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने बांग्लादेश के खिलाड़ी व बोर्ड के बीच चल रहे विवाद का निपटारा करने का जिम्मा मशरफे मुर्तजा को दिया है। बांग्लादेश वनडे क्रिकेट टीम के कप्तान मशरफे मुर्तजा अब इस विवाद को खत्म करने के लिए मध्यस्थता करेंगे। ईएसपीएन क्रिकइन्फो के मुताबिक खिलाड़ी बुधवार की शाम को बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड के अधिकारियों से मिलेंगे। 

बीसीबी सीईओ निजामुद्दीन चौधरी ने कहा कि सोमवार शाम की मीडिया कांफ्रेंस के बाद मैंने एक सीनियर खिलाड़ी से बात की जिसने मुझे बताया कि आपस में बात करके वे मुझसे संपर्क करेंगे। हमें बुधवार शाम पांच बजे मुलाकात की उम्मीद है। वहीं स्थानीय मीडिया ने बीसीबी निदेशक महबूबुल अनम के हवाले से कहा कि हसीना ने मुर्तजा से इस बारे में बात की है। उन्होंने कहा कि वह क्रिकेट हालात के बारे में ताजा जानकारी चाहती थी। उन्होंने मशरफे को कहा है कि वह खिलाड़ियों को फिर मैदान पर लेकर आयें। 

खबरों की मानें तो बताया जा रहा है कि ये मामला सही दिशा में आगे बढ़ रहा है जिसका निपटारा जल्द ही कर लिया जाएगा। बंग्लादेश के खिलाड़ियों ने ये हड़ताल सोमवार से शुरू कर दी थी जिसके बाद ऐसा लग रहा था कि बांग्लादेश का भारत दौरा खटाई में पड़ा सकता है। भारत व बांग्लादेश के बीच पहला टी20 मैच तीन नवंबर को खेला जाएगा। हालांकि मंगलवार की रात में बोर्ड ने खिलाड़ियों की सबसे अहम मांग को मान ली थी जिसमें जो ढाका बांग्लादेश प्रीमियर लीग क्लब ट्रांसफर सिस्टम से जुड़ी है। इसके लिए बोर्ड ने ढाका लीग कमेटी से बात की थी। वैसे इन सारे मुद्दों पर आपसी सहमति जब तक नहीं बन जाती ऐसा लगता है तब तक बांग्लादेश का भारत दौरे पर सस्पेंस  बना रहेगा। 

बांग्लादेश क्रिकेट टीम के खिलाड़ियों की अन्य मांगों में  बांग्‍लादेश प्रीमियर लीग के फ्रेंचाइजी मॉडल को रद्द करने के फैसले को वापस लेने की मांग भी शामिल है। इसके अलावा सेंट्रल कांट्रेक्ट सैलरी को बढ़ाने की बात भी कही गई है। खिलाड़ियों ने सेंट्रल कांट्रेक्ट के लिए खिलाड़ियों की संख्या में बढ़ोतरी करने की बात भी कही है साथ ही फर्स्ट क्लास मैच की फीस को भी ज्यादा करने जैसी मांगे शामिल है। 

Posted By: Sanjay Savern

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप