तिरूवनंतरूरम। आइपीएल स्पॉट फिक्सिंग मामले में पटियाला हाउस कोर्ट की तरफ से बरी किए जाने के बाद केरल के तेज गेंदबाज श्रीसंत के पक्ष में अब केरल क्रिकेट बोर्ड आ गया है। बोर्ड ने बीसीसीआइ को पत्र लिखकर श्रीसंत के उपर लगाए गए बैन को हटाने की मांग की है। केरल क्रिकेट बोर्ड की इस मांग के बाद बीसीसीआइ की मुश्किलें बढ़ गई है। बीसीसीआइ ने कोर्ट का फैसला आने के तुरंत बाद ये कह दिया था कि किसी भी खिलाड़ी के उपर से बैन नहीं हटाया जाएगा।

पटियाला हाउस कोर्ट ने सबूतों के अभाव में क्रिकेटर्स एस. श्रीसंत, अंकित चव्हाण और अजीत चंदिला समेत सभी 36 आरोपियों को बरी कर दिया था। इसके बावजूद बीसीसीआइ ने कहा कि इनके उपर आपराधिक प्रकरण के चलते वह क्रिकेटर्स श्रीसंथ और अंकित चव्हाण पर लगा आजीवन प्रतिबंध नहीं हटाएगा। बीसीसीआइ की चंदिला के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई अभी जारी है।

केरल क्रिकेट एसोसिएशन के सचिव टीसी मैथ्यू ने बीसीसीआइ अध्यक्ष जगमोहन डालमिया और सचिव अनुराग ठाकुर को भेजे पत्र में लिखा - चूंकि कोर्ट ने श्रीसंत को बरी कर दिया है, इसलिए हमने बीसीसीआइ से उन पर लगा आजीवन प्रतिबंध हटाने की मांग की है। ऐसा होने पर श्रीसंत की सक्रिय क्रिकेट में वापसी हो पाएगी।

खबरों के मुताबिक मुंबई क्रिकेट एसोसिएशन (एमसीए) भी बीसीसीआइ से अंकित चव्हाण पर लगा प्रतिबंध हटाने की मांग करने वाला है। एमसीए के संयुक्त सचिव पीवी शेट्टी ने कहा- यदि किसी खिलाड़ी को निर्दोष पाया जाता है तो फिर उसे सजा देने का क्या मतलब है।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

खेल की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: sanjay savern

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस