नई दिल्ली, जेएनएन। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड यानी BCCI ने रविवार 8 मार्च को साउथ अफ्रीका के खिलाफ होने वाली 3 मैचों की वनडे सीरीज के लिए भारतीय टीम का चयन किया। सुनील जोशी को चयन समिति का अध्यक्ष बनाए जाने के बाद उनका ये पहला असाइनमेंट था। सुनील जोशी की अध्यक्षता वाली इस चयन समिति ने जो साउथ अफ्रीका के खिलाफ 12 मार्च से शुरू हो रही वनडे सीरीज के लिए जिन खिलाड़ियों का चयन किया है, उससे साफ लग रहा है कि एक भारतीय ऑलराउंडर का वनडे इंटरनेशनल करियर भी समाप्त होने जा रहा है।

दरअसल, हम बात कर रहे हैं भारतीय टीम के हरफनमौला खिलाड़ी केदार जाधव की, जो अब शायद ही कभी भारतीय टीम के लिए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलते नज़र आएंगे। ऑलराउंडर केदार जाधव को रविवार को साउथ अफ्रीका के खिलाफ चुनी गई 15 सदस्यीय टीम से बाहर कर दिया गया है। उनको वनडे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में शामिल नहीं किए जाने के पीछे एक नहीं, बल्कि कई वजह हैं, जो उन्हें अब वनडे टीम के लिए फिट साबित नहीं करती। यही कारण है कि अब उनका वनडे टीम में चुना जाना लगभग नामुमकिन हो गया है।

हार्दिक पांड्या की टीम में वापसी

दाएं हाथ के मिडिल ऑर्डर बल्लेबाज केदार जाधव जिस चीज के लिए जाने जाते थे कि वे भारत की वनडे टीम में निचले क्रम पर बल्लेबाजी करें और कुछ ओवर निकालें, जिसमें वे विकेट भी निकाल सकें। हालांकि, अब रवींद्र जड़ेजा और हार्दिक पांड्या टीम में वापस आ गए हैं। ऐसे में केदार जाधव की जगह प्लेइंग इलेवन तो छोड़िए फाइनल फिफ्टीन में भी फिट नहीं बैठ रहे। यहां तक कि जब-जब उनको मौका मिला है कि भारतीय टीम को मुश्किल से नहीं निकाल पाए हैं।

इसमें कोई शक नहीं है कि केदार जाधव का वनडे इंटरनेशनल क्रिकेट में औसत और स्ट्राइक रेट निचले क्रम पर काफी अच्छा है, लेकिन मौका पड़ने पर वे टीम के लिए अब उपयोगी साबित नहीं हो पा रहे हैं। इसके अलावा केदार जाधव इसू महीने 26 मार्च को 35 साल के होने जा रहे हैं। ऐसे में उनकी उम्र भी वनडे टीम के लिए एक बड़ा फैक्टर है, जिस पर चयनकर्ताओं की भी नज़र है। हालांकि, बीसीसीआइ के सालाना करार में केदार जाधव का नाम शामिल है, लेकिन अब शायद उनको हमेशा टीम से बाहर रहना पड़ेगा।

सिर्फ वनडे खेल रहे हैं केदार

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि ऑलराउंडर केदार जाधव भारत के लिए सिर्फ वनडे फॉर्मेट का हिस्सा हैं, लेकिन साउथ अफ्रीका के खिलाफ वनडे सीरीज के बाद भारतीय टीम साल 2020 के आखिर तक शायद एक भी वनडे मैच नहीं खेल पाएगी। ऐसे में केदार जाधव का करियर लगभग समाप्त ही लग रहा है। इसके अलावा टीम का फोकस इस साल टी20 एशिया कप और टी20 वर्ल्ड कप के साथ-साथ टेस्ट क्रिकेट पर है। टेस्ट क्रिकेट केदार जाधव खेलते नहीं हैं और टी20 फॉर्मेट में वे अच्छा कर नहीं पाए हैं।

साल 2014 में केदार जाधव ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यू किया था और अब तक उन्होंने 73 वनडे मैच खेले हैं। इन वनडे मैचों की 52 पारियों में वे 19 बार नाबाद रहे हैं और 1389 रन बनाए हैं। केदार जाधव ने वनडे में 42.09 की औसत और 101.61 की स्ट्राइकरेट से 2 शतक और 6 अर्धशतक भी जड़े हैं, लेकिन मौजूदा फॉर्म उनकी खास नहीं है। यहां तक कि भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली उनसे गेंदबाजी करा नहीं रहे हैं। ऐसे में नंबर 6 पर भारतीय टीम मनीष पांडे के रूप में एक प्रोपर बैट्समैन खिला सकती है।

हालांकि, हार्दिक पांड्या नंबर 6 पर खेल सकते हैं और जरूरत पड़ने पर वे नंबर 4 पर बल्लेबाजी कर तेजी से रन बना सकते हैं। इसके अलावा उनसे 5-6 ओवर भी किसी भी मैच में कराए जा सकते हैं। यहां तक कि हार्दिक में 10 ओवर करने की क्षमता है। वहीं, अगर 2023 में होने वाले वनडे वर्ल्ड कप की बात करें तो उसमें अभी 3 साल का समय है और उस समय केदार जाधव की उम्र 38 के पार हो जाएगी। ऐसे में शायद अब उनके करियर पर विराम लग गया है।

Posted By: Vikash Gaur

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस