नई दिल्ली, अभिषेक त्रिपाठी। संयुक्त अरब अमीरात के शारजाह स्टेडियम और भारत के ग्रेटर नोएडा के शहीद विजय सिंह पथिक स्टेडियम को अपना घरेलू मैदान बना चुकी पड़ोसी देश अफगानिस्तान की क्रिकेट टीम अब लखनऊ के नए नवेले इकाना स्टेडियम की ओर निहार रही है। अगर सबकुछ ठीक रहा तो भारत-न्यूजीलैंड वनडे की मेजबानी से चूके इस स्टेडियम को अफगानिस्तान की राष्ट्रीय टीम का घरेलू मैदान घोषित किया जा सकता है।

एक देश के तौर पर अफगानिस्तान के हालात किसी से छिपे नहीं है लेकिन उसकी क्रिकेट टीम ने हाल के वर्षो में जबरदस्त प्रदर्शन किया है और इसी कारण उसे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आइसीसी) ने हाल ही में उसे टेस्ट खेलने वाले देश का दर्जा दिया था। टेस्ट खेलने का दर्जा पाने वाले दुनिया के 12वें देश अफगानिस्तान के खिलाड़ी पहले ग्रेटर नोएडा के शहीद विजय सिंह पथिक स्टेडियम में अभ्यास करते थे लेकिन पिछले साल यहां गुलाबी गेंद से हुए पहले दलीप ट्रॉफी मैच की मेजबानी को लेकर भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआइ) और उत्तर प्रदेश क्रिकेट संघ (यूपीसीए) में तनातनी हो गई थी।

यूपीसीए की नाराजगी के बाद इस स्टेडियम में कोई घरेलू मैच भी नहीं हुआ और अफगानिस्तान ने भी यहां से किनारा कर लिया। अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने बीसीसीआइ से भारत में नए घरेलू मैदान का नाम सुझाने के लिए कहा है। सूत्रों के मुताबिक इसको लेकर बीसीसीआई सीईओ राहुल जौहरी ने यूपीसीए के निदेशक व आइपीएल चेयरमैन राजीव शुक्ला से बातचीत की है। इसके बाद शुक्ला ने इकाना स्टेडियम के प्रबंध निदेशक उदय सिन्हा से बात की। अगर सबकुछ ठीक रहता है तो इस सप्ताह ही अफगानिस्तान बोर्ड के अधिकारी इस स्टेडियम का दौरा कर सकते हैं।

बीसीसीआइ के एक पदाधिकारी ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि बात चल रही है और अगर सबकुछ ठीक रहता है तो अफगानिस्तान क्रिकेट टीम इकाना पर अभ्यास करते हुए दिखाई देगी। यही नहीं उसके अंतरराष्ट्रीय मैच भी इस स्टेडियम में हो सकेंगे।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Pradeep Sehgal

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस