क्राइस्टचर्च, प्रेट्र। इशांत शर्मा की एड़ी की चोट ने बीसीसीआइ और राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (एनसीए) के प्रमुख फिजियो आशीष कौशिक को कठघरे में खड़ा कर दिया। 31 वर्षीय तेज गेंदबाज इशांत आइपीएल का पहला हिस्सा भी चोट के कारण चूक सकते हैं, क्योंकि वह अब एनसीए में रिहैबिलिटेशन से गुजरेंगे।

इशांत पहले टेस्ट से 72 घंटे पहले ही टीम का हिस्सा बने थे और उन्होंने करीब 23 ओवर फेंकते हुए पांच विकेट निकाले थे। भारतीय टीम प्रबंधन अभी भी स्कैन के परिणाम का इंतजार कर रहा है लेकिन बीसीसीआइ सूत्रों की मानें तो इशांत को दोबारा उसी एड़ी में चोट लगी है। ऐसे में बीसीसीआइ पर अब इस चोट के बाद कुछ सवाल खड़े हो गए हैं। बीसीसीआइ में सवाल हो रहे हैं कि जब दिल्ली टीम के फिजियो ने इशांत को ग्रेड 3 की चोट के कारण छह सप्ताह तक बाहर कर दिया तो फिर कैसे कौशिक और एनसीए टीम ने उनकी तीन सप्ताह में वापसी तय कर दी।

दूसरा सवाल यह है कि क्या खिलाड़ी टेस्ट सीरीज के लिए खुद ही जल्द फिट होने का दबाव बना रहे हैं? तीसरा और सबसे अहम सवाल यह है कि ये कैसा रिहैबिलिटेशन है जिसमें एक वरिष्ठ तेज गेंदबाज चोट के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी से पहले एक भी मैच नहीं खेलता है, जबकि यह तो नियम है।

इशांत ने संवाददाताओं को बताया था कि उन्होंने एनसीए में दो दिन के अंदर 21 ओवर किए थे, जिसके बाद ही उन्हें खेलने की अनुमति दी गई। इशांत ने यहां तक की कौशिक के साथ एक तस्वीर भी ट्वीट की जिसमें वह एनसीए और उनकी तारीफ कर रहे थे। यह पहला मौका नहीं है जब किसी वरिष्ठ तेज गेंदबाज की चोट दोबारा से उबर कर आई हो।

इससे पहले स्पो‌र्ट्स हार्निया से जूझ रहे तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार ने भी चोट के बाद वापसी की, लेकिन यह चोट उन्हें दोबारा उबर आई और वह बाहर हो गए। कई खिलाड़ी एनसीए में रिहैब करने की जगह अपनी आइपीएल फ्रेंचाइजी के साथ रिहैब कार्यक्रम में भाग लेते हैं। बीसीसीआइ में कई लोग इसे सकारात्मक पब्लिसिटी के तौर पर लेते हैं। हाल ही में बीसीसीआइ अध्यक्ष सौरव गांगुली ने कहा था कि करार के अंतर्गत आने वाले सभी खिलाडि़यों के लिए एनसीए एक मात्र सेंटर है।

 

Posted By: Viplove Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस