नई दिल्ली, जेएनएन। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड यानी बीसीसीआइ के चीफ सौरव गांगुली ने रविवार को इस बात की पुष्टि की कि वुमेन आइपीएल 2020 (टी20 चैलेंज) का आयोजन किया जाएगा। इसी बीच हुई आइपीएल गवर्निंग काउंसिल की मीटिंग में ये फैसला भी हो गया है कि महिलाओं के टी20 चैलेंज का आयोजन 1 नवंबर से 10 नवंबर के बीच संयुक्त अरब अमीरात यानी यूएई में ही किया जाएगा। इस बात से भारतीय महिला खिलाड़ी तो खुश हैं, लेकिन कई विदेशी महिला क्रिकेटर इस बात से नाराज नजर आ रही हैं।

वुमेंस चैलेंजर सीरीज इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के प्लेऑफ के फेज में होगी। ऐसे में माना जा रहा है कि इसका आयोजन नवंबर के पहले सप्ताह में किया जाएगा, जबकि ऑस्ट्रेलिया में खेली जाने वाली वुमेंस बिग बैश लीग के 2020 के सीजन का आयोजन 17 अक्टूबर से 29 नवंबर के बीच होना है। इन दोनों ही टूर्नामेंटों में कुछ खिलाड़ी ऐसे हैं, जो वुमेन आइपीएल भी खेलते हैं और वुमेन बिग बैश लीग भी। ऐसे में अगर दोनों टूर्नामेंट एक समय पर होंगे तो खिलाड़ी कैसे एक-दूसरे टूर्नामेंट में खेल पाएंगे? इस पर अंतरराष्ट्रीय महिला क्रिकेटरों की प्रतिक्रिया आई है।

ऑस्ट्रेलिया की महिला टीम की विकेटकीपर बल्लेबाज एलीसा हीली ने कहा है, "वुमेन आइपीएल WBBL के दौरान बहुत अच्छी बात है। तो क्या जिन भारतीय खिलाड़ियों ने WBBL का कॉन्ट्रैक्ट साइन किया है तो वो इसमें हिस्सा लेंगे? और जिन बड़े इंटरनेशनल खिलाड़ियों ने ऑस्ट्रेलिया में WBBL खेलनी हैं, वो आ पाएंगी? इसके लिए शुभकामनाएं" हीली ने आघे कहा है कि क्या आइपीएल को मार्की प्लेयर्स की जरूरत नहीं है। जब WBBL और BBL साथ में नहीं खेले जाते तो फिर IPL और WIPL क्यों? उधर, भारतीय महिला वनडे टीम की कप्तान मिलाती राज और झूलन गोस्वामी ने बीसीसीआइ के इस फैसले पर आभार प्रकट किया है।

हरमनप्रीत कौर, स्मृति मंधाना, जेमिमा रोड्रिग्स और शफाली वर्मा WBBL के लिए संभावित उम्मीदवार हैं, लेकिन हालिया चीजों को देखते हुए उनकी भागीदारी अंधकार में लग रही है। वहीं, ऑस्ट्रेलिया प्लेयर रचेल हायनेस ने कहा है, "अगर यह(WIPL और WBBL साथ में) सत्य है तो फिर शर्मनाक है। जबकि गेम को प्रीमियर घरेलू टूर्नामेंट के जरिए बढ़ावा मिलना है, लेकिन ये एक-दूसरे से प्रतिस्पर्धा कर रहे हैं।"

वहीं, न्यूजीलैंड की सूजी बेस्ट ने भी अपनी निराशा सोशल मीडिया पर जाहिर की है। बेट्स ने ट्वीट करते हुए कहा है, "WBBL और WIPL दोनों प्रतियोगिताओं के लिए बहुत बड़ी शर्म की बात है।" इस बीच, इंग्लैंड की चार्लोट एडवर्ड्स ने सभी महिलाओं के टूर्नामेंट के लिए एक विंडो होने के महत्व पर जोर दिया है। बीसीसीआइ ने वुमेन आइपीएल के साथ-साथ इससे पहले साउथ अफ्रीका और फिर टूर्नामेंट के बाद वेस्टइंडीज के खिलाफ पूरी सीरीज खेलने का भी मन बनाया है।

Aus-vs-Ind

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021