कैनबरा, प्रेट्र। टी-20 विश्व कप की तैयारियों को अंतिम रूप देने में जुटी भारतीय महिला क्रिकेट टीम शुक्रवार को ट्राई सीरीज के पहले मैच में इंग्लैंड से भिड़ेगी। दुनिया की शीर्ष दो टीमों इंग्लैंड और मेजबान ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मैचों से भारत को आइसीसी टी 20 विश्व कप की तैयारी करने का बेहतरीन मौका मिलेगा। अगला आइसीसी महिला टी 20 विश्व कप ऑस्ट्रेलिया में खेला जाएगा। उस अहम टूर्नामेंट से पहले दो शानदार टीमों के साथ ये सीरीज खेलकर भारतीय महिला टीम अपनी खूबी और कमी पर काम कर सकती है। 

भारतीय महिला टीम को आइसीसी टूर्नामेंटों में पहली खिताबी जीत का इंतजार है। भारतीय टीम 2017 वनडे विश्व कप में खिताब जीतने के करीब पहुंची थी, लेकिन फाइनल में उसे इंग्लैंड के खिलाफ नौ रन से हार का सामना करना पड़ा। इसके एक साल बाद भारतीय टीम को वेस्टइंडीज में टी-20 विश्व कप के सेमीफाइनल में भी इंग्लैंड के ही खिलाफ हार झेलनी पड़ी।

आइसीसी प्रतियोगिताओं के नॉकआउट चरण में भारत की विफलता को देखते हुए कप्तान हरमनप्रीत कौर ने हाल में कहा था कि भारत दबाव से निपटने में नाकाम रहा है। भारत को अगर बड़े टूर्नामेंट जीतने हैं तो अपने प्रदर्शन के अलावा दबाव झेलने की क्षमता में भी सुधार करना होगा।

मुख्य कोच डब्ल्यूवी रमन का भी मानना है कि त्रिकोणीय सीरीज में खेलने से भारतीय टीम को टी-20 विश्व कप से पहले तैयारी में अच्छी मदद मिलेगी। टी-20 विश्व कप ऑस्ट्रेलिया में ही 21 फरवरी से आठ मार्च तक खेला जाएगा। भारत को ग्रुप चरण में मेजबान ऑस्ट्रेलिया, बांग्लादेश, न्यूजीलैंड और श्रीलंका के साथ रखा गया है।

बंगाल की रिचा घोष टीम में एकमात्र नया चेहरा हैं। उन्हें महिला चैलेंजर ट्रॉफी में अच्छे प्रदर्शन के बाद टीम में जगह मिली है। हरियाणा की 15 साल की स्कूली छात्रा शेफाली वर्मा भी अपने पहले वैश्विक टूर्नामेंट में हिस्सा लेंगी। शेफाली ने अपने पहले अंतरराष्ट्रीय सत्र में कुछ अच्छी पारियां खेलकर प्रभावित किया है।

Edited By: Sanjay Savern